-->

अब फिक्स्ड डिपाजिट पर मिलेगा कब ब्याज SBI ने कम किये रेट्स

पीटीआई | Updated: Mar 11 मुंबई 

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया जो की भारत की सबसे बड़ी  बैंक  मानी जाती  है जिसके पास सबसे ज्यादा फिक्स्ड डिपाजिट सेवाएं है। लेंडिंग रेट्स को कम किया है। इससे पहले भी लेंडिंग रेट्स मे बदलाव किया था। 

इमेज सौजन्य :इंटरनेट 


SBI की तरफ से आधिकारिक बयान मे कहा गया की कुछ टेनर्स के लिए ब्याजदर मे बदलाव किये जायेंगे जो की आज से लागु होंगे। इसमे फण्ड आधारित उधर (MCLR ) के बेसिक पॉइंट को कम किया है। 

  • SBI बैंक ने इस महीने मे दूसरी बार ब्याजदर कम की। 
  • इस ब्याजदर मे पुराणी फिक्स्ड डिपाजिट शामिल नहीं सिर्फ नए फिक्स्ड डिपाजिट पर लागु होंगी। 
  • MCLR ७. ५० फीसदी पर लाने की SBI की कोशिश 
  • ये नए ब्याजदर मार्च २०११ से  लागु होंगे। 
  • इससे पिछले ३ साल का MCLR १० बेसिस पॉइंट से कम हुआ है। 

SBI की नयी ब्याजदर ११ मार्च २०१० से लागू 


समय  सामान्य नागरिक  वरिष्ठ नागरिक 
७ से ४५ दिन  ४ प्रतिशत  ४.५० प्रतिशत
४६ से  १७९ दिन  ५ प्रतिशत ५. ५० प्रतिशत
१८० से २१० दिन  ५.५० प्रतिशत  6  प्रतिशत
२११ दिन से १ साल  ५. ९० प्रतिशत  6 प्रतिशत
१ साल से २ साल  ५. ९० प्रतिशत  ६. ४०  प्रतिशत
२ साल से ३ साल  ५. ९० प्रतिशत  ६. ४० प्रतिशत
३ साल से ५ साल  ५. ९० प्रतिशत  ६. ४० प्रतिशत
५ साल से १० साल  ५. ९० प्रतिशत  ६. ४०  प्रतिशत
 
इस कटौती के बाद फिक्स्ड डिपाजिट करने वाले लोग निराश होंगे लेकिन इसके कारन अब होम लोन और ऑटो लोन की ब्याजदर कम होने का अंदेशा है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां