-->

ULIP क्या है ? क्या आपको करना चाहिए निवेश ?

ऐसे बोहोत सारे लोग है जो टैक्स कम करने मे रूचि रखते है और इसी प्रकार का निवेश करना चाहते है जहा पर सेविंग भी  अच्छा हो और टैक्स लाभ भी मिले। इस बात को जानकर सभी इन्शुरन्स कंपनी ने ULIP नामक  इन्शुरन्स प्लान्स बाजार मे उतरे जो की लम्बे समय तक निवेश और बिमा कवर दोनों का उद्देश्य पूरा करती  है और टैक्स मे छूट भी प्राप्त करती है।




    क्या है ULIP ?

    ULIP का फुल फॉर्म है यूनिट लिंक्ड इन्शुरन्स प्लान इस प्लान से खरीदने से आप म्यूच्यूअल फण्ड जैसा निवेश और आपके बिमा कवर का उद्देश्य सफल कर सकते है। इसमे आधा आधा हिस्सा निवेश और बिमा कवर मे बाट दिया जाता है। जिससे आप आपके लम्बे समय के निवेश उद्देश्य को पुरे कर सकते है।


    ULIP प्लान मे निवेश करने के फायदे :

    • ULIP प्लान मे जो प्रीमियम राशि आप भरते है उसपर आपको सेक्शन 80c के अनुसार टैक्स छूट मिलती है। 
    • मचोरिटी समय जो रिटर्न राशि आपको मिलती है (LTCG ) से आगे होती है इसके लिए आपको यहाँ पर भी टैक्स नहीं देना पड़ता। 
    • आपको सेक्शन १०D के अनुसार टैक्स छूट का लाभ मिलता है। 
    • LTCG टैक्स के लिए निचे का टेबल देखिये। 

    • इसके आलावा आपको इस प्लान मे बिमा कवर मिलता है जो इस तरह के प्लान का प्राथमिक उद्देश्य होता है। 
    • इस बिमा कवर द्वारा आपके परिवार को आपके मृत्यु पश्चात एक अतिरक्त सुरक्षा मिलती है। 
    • इस पालिसी से आप आपके लम्बे समय के उद्देश्य सपनो को भी पूरा कर सकते है। 
    • लम्बे समय के उद्देश्य जैसे की नयी कार लेना ,नया घर खरीदना ,बेटे की शादी ,
    • इस तरह के उद्देश्य को पूरा करने के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट्स से बोहोत ज्यादा बेहतर है ULIP प्लान क्यों की आप इसमे ज्यादा रिटर्न प्राप्त कर सकते है। 
    • इस तरह के पालिसी मे आपको ३ तरह के फण्ड के फण्ड विकल्प मिलेंगे  जहा आप आपके रिस्क क्षमता के अनुसार पैसे निवेश कर सकते है। 
    • आप चाहे तो निवेश फण्ड को साल के अंदर बदल भी सकते है। 


    ULIP  कैसे काम करता है ?

    • जब आप कोई ULIP इन्शुरन्स पालिसी खरीदते है तो आपके प्रीमियम का कुछ हिस्सा शेयर् बाजार और सरकरी बांड्स मे लगाया जाता है और बाकि का आपके बिमा कवर के लिए। 
    • इसके साथ म्यूच्यूअल फण्ड जैसे ही आपके निवेश की राशि की कीमत बढ़ती जाती है। 
    • फण्ड मैनेजर द्वारा आपके निवेश को संतुलित किया जाता है आप अलग अलग फण्ड मे साल स्विच भी कर सकते है। 

    ULIP लेने का उद्देश्य :

    • ULIP  प्लान लेकर आप आपके निवश के कुछ उद्देश्य सफल कर सकते है जैसे की आप रिटायरमेंट की प्लानिंग का उद्देश्य के लिए ULIP प्लान चुन सकते है। 
    • बच्चो की शिक्षा या फिर शादी के लिए आप ऐसे प्लान मे निवेश कर सकते है इसे आप  लम्बे समय का उद्देश्य कह सकते है। 
    • इसके आलावा आप भविष्य के लिए आर्थिक नियोजन भी कर सकते है। 

    ULIP प्लान के निवेश फण्ड :

    • आप  ULIP प्लान मे इक्विटी फण्ड द्वारा निवेश कर सकते है जिसमे आपका पैसा इक्विटी  शेयर मे लगाया जाता है लेकिन यह निवेश फण्ड काफी रिस्की होता है। अच्छा रिटर्न भी आप इससे कमा सकते है। 
    • दूसरे विकल्प मे आपका पैसा थोड़ा इक्विटी शेयर मे और बाकि डेब्ट सिक्योरिटीज मे लगाया जाता है इसमे रिस्क माधयम होता है और रिटर्न भी। 
    • डेब्ट फण्ड  जहा पर आपके निवेश की राशि मनी इंस्ट्रूमेंट्स सरकारी सिक्योरिटीज मे लगाई जाती है यहाँ पर रिस्क ना के बराबर होती है और रिटर्न भी कम होती है। 

    ULIP मे बीमाधाराक को मिलने वाले डेथ बेनिफिट :

    • आपको यहाँ पर २ विकल्पों मे डेथ बेनिफिट मिलता है। 
    • पहले विकल्प मे बीमाधारक के मृत्यु के बाद नॉमिनी को बिमा राशि या फिर फण्ड की राशि जो ज्यादा होगी दी जाती है। 
    • दूसरे विकल्प मे बिमा राशि और फण्ड की राशि दोनों नॉमिनी को दी जाती है। 

    ULIP प्लान निवेश फण्ड का लॉक इन समय :

    • यूलिप प्लान मे आप फण्ड मे निवेश की गयी राशि को ५ साल पहले नहीं निकल सकते। 
    • बिमा पालिसी का समय आपका १० १५ साल का हो सकता है। लेकिन ५ साल बाद आप फण्ड की राशि को निकल सकते है। 

    सबसे अच्छा ULIP प्लान कैसे चुने ?

    सबसे अच्छा प्लान चुनने के लिए आपको निवेश की जरूरतों पर ध्यान देना चाहिए इसके लिए कुछ जरुरी बातें देखनी चाहिए। 
    • अगर आप खुद का आर्थिक नियोजन कर रहे हो तो ये देखना चाहिए की आपको इस तरह के पालिसी से क्या लाभ मिलेगा और आप जिस उद्देश्य से प्लान ले रहे हो क्या सफल होगा या नहीं। जैसे की रिटायरमेंट की प्लानिंग के लिए लम्बे समय का यह ULIP बिमा अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। 
    • इसके बाद आपके रिस्क लेने की क्षमता को भी देखना चाहिए क्यों की अगर आप इक्विटी फण्ड का विकल्प लेते हो यहाँ पर रिस्क ज्यादा होती है। 
    • इसके बाद निवेश के उद्देश्य ५ साल के बाद ही पूरा होने वाला हो या फिर  लम्बे समय का हो क्यों की आप ५ साल पहले निवेश की राशि को नहीं निकल सकते। 
    • उद्देश्य तय होने के बाद आपको ULIP प्लान को चुनना है आपको अलग अलग तरह के ULIP पालिसी प्लान्स को देखने चाहिए और आपके निवेश उद्देश्य को आसानी से पूरा कर सकता है ऐसा प्लान चुने। इसके आलावा उनकी बाकि शुल्क प्रीमियम सभी की जानकारी विस्तार से देखे आप इंटरनेट की मदत से अलग अलग प्लान्स की जानकारी देख सकते है. 

    ULIP पालिसी प्लान के शुल्क :


    १ मोर्टेलिटी शुल्क :

    पालिसी शुरू होने के समय आपके आपको इस शुल्क को भरना होता है। ये शुल्क आपके बिमा कवरेज राशि अनुसार होता है। लेकिन पालिसी मचोर होने के समय आपको यह शुल्क वापिस भी मिल सकता है। 

    २  प्रीमियम एलोकेशन शुल्क :

    प्रीमियम एलोकेशन चार्जेज आपके प्रीमियम से कट किये जाते है। और शेष राशि से फण्ड यूनिट लिए जाते है।

    ३  फण्ड स्विच शुल्क :

    एक फण्ड प्रकार से दूसरे मे स्विच करने पर आपको १०० रुपये शुल्क लगेगा। 

    ४  आंशिक राशि निकासी :

    आहार आप आपके फण्ड से कुछ यूनिट कैंसिल करते है तो उसके लिए आपको १०० रुपये शिल्क लगेगा। 


    टिप्पणी पोस्ट करें

    0 टिप्पणियां