-->

किसानो को लिए वरदान साबित ही रही है E-Naam योजना यहाँ जाने पूरी जानकारी

इ नाम (e -Naam )  भारत सरकार इस योजना को ४ साल पहले २०१७ मे शुरू किया था। इस योजना का प्रमुख लक्ष्य किसानो की आय इनकम को बढ़ाना है। यह योजना एक ऑनलाइन मंडी जैसा है। ये एक कृषि  पोर्टल के माधयम से काम करता है इसके जरिये किसान को अपने उपज को घर बैठे बेचने का विकल्प मिलता है इसके आलावा बिच के व्यापारी ना होने के कारन किसानो को उचित मूल्य भी आसानी से मिलता है। सरकार ने दिए आंकड़ों के अनुसार कुल मिलकर १.६८ करोड़ किसानो ने इस इ नाम योजना के तहत खुद का रजिस्ट्रेशन किया है।


    इ नाम योजना की विशेष बातें :(Features Of e-Naam)

    • ई-नाम कृषि पोर्टल की शुरवात १४ अप्रैल २०१६ से हुई है। 
    • शुरवात के समय २१ देश के प्रमुख २१ मंडियों मे किसान उपज को बेच सकते थे। 
    • अभी के समय मे देश के १८ राज्यों मे यह पोर्टल काम करती है और १.६८ करोड़ किसानो ने इस मंडी के तहत रजिस्ट्रेशन किया है। इसके आलावा व्यापारी और कमीशन एजेंट भी इससे जुड़े है। 
    • आप इ नाम पोर्टल को वेब ब्राउज़र और मोबाइल एप्लीकेशन की मदत से भी इस्तेमाल कर सकते है। 
    • साल २०२० मे  इ नाम पोर्टल मे १ हजार से ज्यादा मंडी को शुरू करने का लक्ष्य रक्खा गया है। 
    • आप इ-नाम के जरिये १२४ तरह के उपज को बेच सकते है। आप सभी कमोडिटी की लिस्ट यहाँ पर चेक कर सकते है। (१२४ कमोडिटी लिस्ट )
    • आप पुरे राज्य मे किसी भी मंडी मार्किट मे आपकी उपज बेच सकते है। 
    • बिड के जरिये उपज खरीदने पर किसान को  अच्छा भाव मिलता है। 
    • ऑनलाइन तत्काल पेमेंट का विकल्प जिससे किसान को तुरंत पैसे  मिलते है। 
    • इ नाम के जरिये किसानो के उपज मिटटी को चेक करने के लिए चुने हुए मंडी मे लैब की सुविधा भी शामिल। 

    कैसे काम करता है e -Naam पोर्टल :(How e -Naam Portal Works)



    • वर्तमान मे इ नाम पोर्टल पर ५८५ कृषि मंडिया है। 
    • इसका मतलब हर एक राज्य जिल्हे की मंडी आपको इस पोर्टल मे मिलेगी। 
    • ऐसा समझ लीजिये की पुणे के ग्रामीण भाग मे रहने वाले किसान को खुद की उपज पुणे की मंडी मे बेचनी है.
    • तो सबसे पहले उस किसान को e-Naam फार्मर पोर्टल पर खुद को रजिस्टर करना पड़ेगा। 
    • फिर पुणे की मंडी चुननी होगी जो आपके पास हो वैसे आप राज्य मे कोई भी मंडी को चुन सकते हो। 
    • उसके बाद आपको आपके उपज को अपलोड करना पड़ेगा उसके बाद आपके उपज की सैंपलिंग की जाएगी। 
    • अगले चरण मे आपके उपज पर बोली लगेगगी रेजिस्टर्ड ट्रेडर आपके उपज पर बोली के आधार पर खरीद लेंगे। 
    • अगले स्टेप मे आपके उत्पाद का वजन लिया जायेगा और इनवॉइस बिल तैयार किया जायेगा। 
    • उसके बाद आपको किसान को चलन चेक या फिर ऑनलाइन बैंकिग के मदत से पैसे ट्रांसफर किये जायेंगे। 
    • आखिर मे माल उपज व्यापरी के पास जाकर मंडई या फिर बड़े APMC मार्किट मे माल बेच सकते है मे बेच सकता है। 
    • इस तरह से किसान को सही भाव पर अपने उत्पाद को बेचने का मौका मिलता है। 

    इ-नाम योजना के किसानो के  लिए  फायदे :(Benifits Of e-Naamm To Farmers)

    • इ नाम पोर्टल के किसानो को खुद की उपज को बाजार मे लाना आसान होता है। 
    • एक पर दर्शक ऑनलाइन ट्रेड के जरिये उपज को रक्खा जाता है। 
    • किसान को उपज उत्पाद के क्वालिटी के आधार पर कीमत मिलती है। 
    • एक ही आधार बहुत कीमत पर उपज को बेचा ख़रीदा जाता है। 
    • ऑनलाइन पेमेंट के करिये सीधे बैंक खाते मे पैसे जाते है। 
    • मार्किट तक उत्पाद ट्रांसपोर्ट करने के खर्चा कम आता है। 
    • बिच के दलालो के बिना किसानो का माल सीधे मंडी मे पहुंच जाता है जिससे किसानो को ज्यादा नफा होता है। 
    सिर्फ किसानो को ही नहीं बल्कि इस प्रक्रिया मे शामिल सभी सभी व्यापारी ,ग्राहक ,मंडी ,इन सभी को इससे फायदा होता है। 

    इ- नाम पोर्टल पर रजिस्टर करने के लिए जरुरी दस्तावेज :(Documents For Registration)

    • २ पासपोर्ट साइज फोटो 
    • बैंक खाता पासबुक 
    • लीविंग सर्टिफिकेट 
    इ नाम के लिए आप ३ तरह से रजिस्टर कर सकते है। 
    1. इ नाम पोर्टल के जरिये ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 
    2. मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये रजिस्ट्रेशन 
    3. मंडी मे जाकर भी आप रजिस्ट्रेशन कर सकते है 


    १ इ-नाम पोर्टल पर किसान को रजिस्टर करने की प्रक्रिया :(e-Naam Portal Registration Process)

    • इ नाम पोर्टल पर किसान को खुद को रजिस्टर करने के ;लिए सबसे पहले इ नाम के अधिकृत वेबसाइट  पर  है (e-Naam)

    • उसके बाद आपको रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना है एक नया फॉर्म ओपन होगा आपको इस फॉर्म की भरना है। 

    • सबसे पहले रजिस्ट्रेशन टाइप मे अगर आप किसान हो तो सेलर चुनना है व्यापारी बायर का विकल्प चुनेंगे इसके आलावा कमिशन एजेंट और सर्विस प्रोवाइडर का विकल्प शामिल है। 
    • उसके बाद आपको रजिस्ट्रेशन कैटगरी अगर आप अकेले किसान व्यवसाय को सिर्फ फार्मर चुनना है,इसके आलावा बोहोत सारे विकल्प है जैसे की किसानो का ग्रुप ,ट्रेडर ,कमिशन एजेंट भी बायर के विकल्प रजिस्टर कर  सकते है। 
    • अगले चरण मे रजिस्ट्रेशन लेवल चुननी है जैसे स्टेट  फिर APMC  २ विकल्प है। 
    • स्टेट लेवल चुनने के बाद राज्य चुनना है APMC के लिए आपको राज्य और उसके बाद APMC चुननी होगी। 
    • आगे के लिए आपको खुद की पर्सनल जानकारी देनी है। 
    • जिसमे आपका नाम ,पता ,जन्मा तिथि ,मोबाइल नंबर ,आधार कार्ड नंबर ,आपका ईमेल आय डी इसकी ये सब जानकारी देनी है। 
    • अगले स्टेप मे आपको बैंक खाते की जानकारी भरनी है। 
    • उसके बाद पासबुक की स्कैन कॉपी अपलोड करनी है। 
    • आधार कार्ड ,पैन कार्ड ,वोटर आय दी ,इन मे से १ आय डी प्रूफ अपलोड करना है। 
    • आखिर मे सबमिट कर देना है आपको रजिस्ट्रेशन का कन्फर्मेशन मेल आय डी और SMS द्वारा भेजा जायेगा। 
    • आपको उसके बाद लोग इन  और पासवर्ड मिलेगा जिसके द्वारा लोग इन करके आप आपके उपज को  अपलोड कर सकते है। 

    २ इ नाम मोबाइल एप्लीकेशन द्वारा रजिस्ट्रेशन ::(e-Naam Mobile Application Registrtion Process)

    • आप इ नाम के मोबाइल एप्लीकेशन को डाउनलोड करके खुद का रजिस्ट्रेशन कर सकते है। 
    • इ नाम एप्लीकेशन डाउनलोड करने के बाद रजिस्ट्रेशन के विकल्प को चुनना है आपको दिया गया फॉर्म भरना है। 
    •  जिसमे आपको रजिस्ट्रेशन टाइप ,राज्य ,APMC ,उसके बाद पर्सनल जानकरी नाम पता मेल आय डी,जन्मा तिथि मोबाइल नंबर की जानकारी देनी है। 
    • अगली स्टेप मे बैंक खाते की जानकारी देनी है। 
    • उसके बाद आपको बैंक खाता पासबुक और आय डी प्रूफ दस्तावेज अपलोड करने है और सबमिट कर देना है। 
    •  उसके बाद आपको मेल आय दी द्वारा लोग इन आय दी और पासवर्ड भेजा जायेगा। 
    • उसके बाद आप एप्लीकेशन मे लोग इन करके इ नाम सेवा का लाभ उठा सकते है ,

    ३  मंडी मे जकात रहिस्ट्रशन :(:(e-Naam Gate Entry Time Registration )

    • अगर आप इन दोनों तरीके से रेगिस्ट्रशन नहीं कर सकते तो आप मंडी मे जाकर सीधे गेट एंट्री पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है। 
    • आपको इसके लिए जरुरी अस्तवेज साथ मे लेने होंगे। 
    • रजिस्ट्रेशन पूरा होने के बाद आप सीधे आपके उपज को सही कीमत पर उसी मंडी मे बीच सकते है। 

    इ नाम ग्राहक सेवा नंबर :(:(e-Naam Helpline Number )

    • इ नाम समबधि कोई समस्या हो तो आप इ नाम के  ग्राहक सेवा 1800 2700 224 से संपर्क कर सकते है। 

    इ लर्निंग विडीओस विकल्प :(:(e-Naam Training )


    • अगर आप इ नाम को कैसे इस्तेमाल करे समझ नहीं पा रहे है तो इ नाम इ लर्निंग वीडियोस के जरिये आप इ नाम मे उपज अपलोड करना बिड करना ,सभी तरह के काम सिख सकते है। 
    • आपको इस सेक्शन मे पूरी ट्रेनिंग मिलेगी सभी तरह के ट्रेनिंग वीडियो आप यहाँ पर मिलेंगे। 

    इ नाम लॉजिस्टीक सेवा:(:(e-Naam Logistic)

    • अगर आप किसान है और आपके पास खुद की ट्रांसपोर्ट सेवा नहीं है तो आप इ नाम लॉजिस्टिक के जरिये आपके उपज को मंडी मे ला सकते है। 
    • यहाँ पर १० से ज्यादा एजेंसी है जो लॉजिस्टिक सेवा देती है। 

    इ नाम मोबाइल एप्लीकेशन के विश्लेषण :(:(e-Naam Mobile Application Features )

    • इ नाम मोबाइल एप्लीकेशन किसान और व्यापारी दोनों के लिए काफी अच्छा विकल्प है। 

    • यहाँ पर आप आपके उपज की लाइव बिडिंग देख सकते है और लोट की आखिरी कीमत भी देख सकते है।
    • आपको इ नाम के जरिये सभी मंडी की जानकारी मिलेगी। 
    • आप अलग अलग मंडी मे चल रहे कमोडिटी के कीमत को जान सकते है।

    • सबसे प्रमुख बात आप इस एप्लीकेशन को कही से भी इस्तेमाल कर सकते है। 
    • ट्रेडर्स के लिए भी ये एप्लीकेशन काफी अच्छा है। 
    • यहाँ से ट्रेडर किसानो के माल के लिए बिड प्लेस कर सकते है और लॉट खरीद भी सकते है। 

    • आप इस एप्लीकेशन को प्ले स्टोर के माधयम से डाउनलोड कर सकते है। 

    टिप्पणी पोस्ट करें

    0 टिप्पणियां