-->

भारत सरकार की इस योजना मे सरकारी कर्मचारीओ को निवेश करना अनिवार्य है इससे रिटायरमेंट प्लानिंग भी जा सकती है

Last Updated :07:45 AM 

मुंबई :केंद्र सरकार की तरफ से सिर्फ सरकरी कर्मचारीओ के लिए एक योजना चलाई जाती है जिसका नाम है GPF जनरल प्रोविडेंट फण्ड हर एक सरकारी कर्मचरी को इस GPF मे निवेश करना अनिवार्य है। इस योजना से आप रिटायरमेंट के लिए भी प्लानिंग कर सकते है। इस योजना मे निवेश करना अनिवार्य है लेकिन इसके लिए आपको अलग से राशि नहीं डालनी पड़ती है आपके सैलरी का तय किया गया हिस्सा इस फण्ड मे डाला जाता है।और इस फण्ड पर कर्मचारीओ को एक निश्चित दर पर ब्याज दिया जाता जिसके बाद रिटायरमेंट के समय इस राशि को निकला जाता है।

जनरल प्रोविडेंट फण्ड (GPF )

  • जनरल प्रोविडेंट फण्ड सिर्फ सरकारी कर्मचारीओ के लिए तैयार की गयी योजना है जिसमे निजी क्षेत्र के लोग निवेश नहीं कर सकते। 
  • इस योजना मे सरकारी कर्मचारीओ को निवेश करना अनिवार्य है। 
  • GPF मे कर्मचारी के वेतन का 3 फीसदी तक का हिस्सा जमा होता है अगर आप चाहे तो १२ फीसदी  तक का योगदान जमा कर सकते है 
  • इसमे नॉमिनी को भी जोड़ा जा सकता है। 
  • सरकारी कर्मचारी अपने जरुरत  के समय इस फण्ड से एडवांस राशि निकल सकते है। 
  • इस एडवांस्ड राशि को आप किश्तों मे वापिस दे सकते है जिसपर आपको कोई ब्याज भी नहीं देना पड़ता है। 
  • GPF पर मिलनेवाला ब्याज दर भी काफी अच्छा है आपको इस योजना मे रक्खे गए पैसो पर 7 से 8 फीसदी का ब्याज मिलता है। इस साल के पहले तिमाही का ब्याजदर 7.1 फीसदी है। 
  • ये एक रिटायरमेंट प्रोविडेंट फण्ड है जिसमे रिटायर होने के बाद राशि को दिया जाता है। 
  • PF से काफी अलग है GPF PF मे आपको 12 फीसदी योगं करना पड़ता है जब की GPF मे 3 फीसदी अनिवार्य है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां