-->

आधार कार्ड वर्चुअल आय डी इस इस्तेमाल करके आधार कार्ड को रक्खे सुरक्षित हैकर कुछ नहीं कर पायेगा

Last Updated :09:51 AM 

मुंबई :आधार कार्ड को इस दौर मे सुरक्षित रखना काफी जरुरी हो गया है ,क्यों की की आपके बैंक खाते से लेकर आपके निवेश तक सभी जगह पर आपका आधार कार्ड अब लिंक होता है। ऐसे मे आधार कार्ड का गलत इस्तेमाल हो सकता है। ऐसी कई घटनाये जहा पर किसी और के आधार कार्ड का गलत इस्तेमाल किया जाता है। खासतौर ऑनलाइन व्यवहारों मे आधार कार्ड नंबर का इस्तेमाल किया जाता है हैकर भी दूसरे के आधार कार्ड का इस्तेमाल करके जानकारी चुराते है। इससे बचने के लिए UIDAI ने 16 डिजिट का वर्चुअल आय डी के इस्तेमाल की प्रणाली शुरू की है जो की एक टेम्पररी आधार कार्ड आय डी जैसा इस्तेमाल किया जा सकता है। और आपने आधार कार्ड नंबर को सुरक्षित रक्खा जा सकता है। 

क्या है वर्चुअल आधार आय डी ? (Whta Is Virtual Id)

  • आधार वर्चुअल आय डी एक 16 डिजिट का नंबर होता है जब की आधार कार्ड नंबर 12 डिजिट का होता है। 
  • जिस तरह किसी ऑनलाइन सुविधा का लाभ लेने के लिए आप आधार कार्ड नंबर का इस्तेमाल करते है ठीक उसी तरह आप इस वर्चुअल आय डी का भी इस्तेमाल कर सकते है। 
  • इससे आपके असली आधार नंबर को इस्तेमाल करने की जरुरत नहीं पड़ी है। और आप उसे सुरक्षित रख सकते है। 
  • आप UIDAI की वेबसाइट के सहायता से वर्चुअल आय डी बना सकते है जो की एक टेम्पररी होता है। 

वर्चुअल आय डी (VID की विशेष बातें )(Featurs Of Virtual ID)

  • ऑनलाइन वेरिफिकेशन या फिर किसी सेवा के इस्तेमाल के लिए आप आधार कार्ड नंबर के बजाये इस वर्चुअल आय डी का इस्तेमाल कर सकते है। 
  • आधार कार्ड नंबर आपके पुरे जीवन मे एक ही होता है जब की वर्चुअल आय डी एक टेम्परी इस्तेमाल के लिए होता है। 
  • एक समय मे एक ही वर्चुअल आय डी वैध रहता है दूर बनाने पर पहले की वैधता ख़तम हो जाती है। 
  • इस तरह से आपके आधार कार्ड की जानकारी का कोई गकत इस्तेमाल नहीं कर सकता। 
  • वर्चुअल आय डी की वैधता समाप्त होने पर उसका भी कोई गलत इस्तेमाल नहीं कर सकता। 
  • जैसे आप बैंकिंग व्यवहारों के लिए एक OTP इस्तेमाल करते हो ठीक उसी तरह इस वर्चुअल आय डी का इस्तेमाल कर सकते है। 
  • इस वर्चुअल आय डी को बनाने के लिए आपका मोबाइल नंबर आधार कार्ड से लिंक होना जरुरी है। 
  • फिलहाल ज्यादार ऑनलाइन वेरिफिकेशन प्रणाली मे सबसे ज्यादा वर्चुअल आय डी को इस्तेमाल किया जाता है ऑफलाइन प्रोसेस इसका इस्तेमल काफी कम है। 

आधार वर्चुअल आय डी को बनाने की प्रोसेस :(How To Generate Virtual ID)

  • आधार वर्चुअल आय डी बनाने के लिए सबसे पहले आपको UIDAI की वेबसाइट पर जाना है। 

  • उसके बाद आधार सेवा के विक्लप मे दिया गया वर्चुअल आय डी जनरेटर विकल्प चुनना है। 
  • उसके बाद आधार कार्ड नंबर और कॅप्टचा कोड डालना है। 
  • आपको मोबाइल पर OTP आएगा उसे डालकर वेरिफिकेशन करना है। 

  • उसके बाद आपको वर्चुअल आय डी 16 डिजिट कोड आपके मोबाइल पर भेजा जायेगा। 
  • जो की आप नया जेनरेट करने वक़्त वैध रहेगा। 
  • इस वर्चुअल आय डी को सुरक्षित राखे किसी के साथ साँझा नहीं करे। 
  • इसके आलावा अगर आपने पहले से वर्चुअल आय डी बनाया है लेकिन मालूम नहीं तो आप उस वर्चुअल आय डी को दोबारा प्राप्त कर सकते है। 
हलाकि फिलहाल इसके उपयोग सिमित है लेकिन आगे चलकर आधार कार्ड सुरक्षा के लिए वर्चुअल आय डी काफी महत्वपूर्ण हो सकता है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां