-->

लॉक डाउन के बिच वित्तीय सहायता के लिए सरकारी बैंको ने दिए 5.66 लाख करोड़ रुपये का लोन

Last Updated :07:33 AM 

मुंबई :गुरवार को वितता मंतरलय ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिये जानकारी दी की मार्च अप्रैल महीने के लॉक  डाउन के बिच सरकारी बैंको ने करीब 5.66 लाख करोड़ का लोन दिया। इसका लाभ छोटे बड़े कारोबारी ,कृषि ,कॉर्पोरेट और रिटेल क्षेत्र मे दिया गया। वित्त मंत्रालय ने इस बारे मे अधिक  जानकारी देते हुए कहा की लगभग 41.81 लाख खाते को इस प्री एप्रूव्ड तरह के लोन का लाभ सरकारी बैंको ने पहुचाहया। 

RBI ने पहले ही नगदी संकट से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए उठाये थे कदम :

  • RBI ने NBFC और बैंक मे नगदी की कमी पूरी करने के लिए सहायता प्रदान की थी। 
  • NBFC और HFC ने 1 मार्च से ४ मई तक सरकरी बैंको ने 77,383 करोड़ रुपये का लोन अप्प्रोव किया है। 
  • TLRO को ऐड करने के बाद यह 1.08 लाख करोड़ हो जाती है उन्होंने आगे कहा की इससे अर्थव्यवस्था को मजबूत और स्थिर रखने मे मदत होगी। 
  • निर्मला सीतारमण जी ने एक और ट्वीट मे इस बात की भी जानकारी दी की EMI मोरटोरियम को सभी बैंको ने शुरू किया है। 
  • और इसके अनुसार करीब 3.74 लाख ख़तधारकको को EMI मोरटोरियम का लाभ मिला है। 
  • जिसमे सभी तरह के लोन EMI पर 3 महीने की छूट दी गयी है। 
  • इसके आलावा इमरजेंसी क्रेडिट लाइन लोन के जरिये प्री एप्रूव्ड 26500 करोड़ का लोन दिया गया। 

RBI ने कम किये थे रेपो रेट :

  • भारत सरकार ने RBI को अर्थव्यस्था को स्थिर रखने के लिए जरुरी कदम उठाने को कहा था। 
  • इसके बाद RBI रेपो रेट मे 0.75 फीसदी की कटौती की थी इसके आलावा बैंको को नगदी सहातया भी दी थी। 
  • फिसल रिपो दर 4.4 फीसदी है। रिवर्स रेपो रेट को भी पिछले महीने घटाया गया था। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां