-->

30 जून के बाद ख़तम होने जा रही है बैंक से जुड़े ये नियम उसके बाद लगेगा शुल्क

Last Updated :10:08 AM 

मुंबई :देश मे कोरोना संक्रमण बढ़ने के बाद मार्च के महीने मे लॉक डाउन घोषित क किया गया था। उस समय लोगो के रहत हेतु 1.70 लाख करोड़ का राहत पैकेज का एलान तुरंत एलान किया गया था। इसी समय वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन जी ने बताया था की अगले 3 महीने 30 जून 2020 तक बैंक बचत  खाते मे औसत न्यूनतम शेष  (AMB) राशि नहीं रखने पर कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा। इसके आलावा ATM विथड्रॉल शुल्क भी छूट दी गयी थी जो की अप्रैल मई जून के लिए थी जो की 30 जून 2020 को ख़तम हो रही है। 

पिछले 3 महीने AMB शुल्क किया था माफ़ :

  • भारत सरकार ने AMB न्यूनतम शेष राशि के नियमो के 3 महीनो के लिए बदलाव किया था। 
  • जिसके तहत बैंक मे कम से कम राशि जमा रखना अनिवार्य नहीं था। 
  • दी गई छूट का ये आखिरी महीना है और अब तक छूट आगे बढ़ने के लिए किसी भी प्रकार के एलान नहीं किया गया है। 
  • इसका मतलब 30 जून के बाद नियमो को फिर से पहले जैसा करके AMB नहीं रखने पर शुल्क लिया जा सकता है। 
  • भारत सरकार ने AMB के आलावा ATM विथड्रॉल पर भी लगने वाले शुल्क पर 30 जून तक राहत दी थी 
  • नियमो के मुताबिक किसी दूसरे बैंक से 3 से ज्यादा समय पर ATM कॅश निकलने पर शुल्क देना पड़ता है। 

AMB के लिए हर बैंक के अलग है नियम :

  • बचत खाते मे शेष राशि रखने के लिए हर एक बैंक के अलग अलग नियम है। 
  • SBI के बचत खाते मे न्यूनतम शेष राशि की शर्त अब नहीं रही है SBI मे अब कम से कम बैलेंस नहीं रखने पर भी कोई शुल्क नहीं लगेगा इससे पहले कम से कम 3 हजार रखना अनिवार्य था। 
  • इसके विपरीत निजी बैंक मे अब भी न्यूनतम शेष राशि रखना अनिवार्य है और 30 जून के बाद जारी रहेगा। 
  • HDFC बैंक के शहरी भाग मे कम से कम 10 हजार रुपये बचत खाते मे रखना अनिवार्य है। 
  • वही आईसीआईसीआई बैंक का भी यही नियम है। 
  • हलाकि ग्रामीण भाग के ब्रांच के लिए AMB की राशि 2500 रुपये है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां