-->

1 जुलाई से बदलने जा रहे है बैंक से जुड़े ये नियम जाने आपको फायदा होगा या नुकसान

Last Updated :04:55 PM 

मुंबई :हर महीने के 1 तारीख को कुछ ना कुछ नया होता है बैंक के नियम तो हर महीने के 1 तारीख को बदलते है। लेकिन इन नए नियमो का सबसे बैंक के ग्राहकको पर पड़ता है। इस आर्थिक वर्षा की पहली तिमाही कोरोना महामारी के कारन अब तक की सबसे ख़राब तिमाही मानी जा सकती। इसके कारन 1 जुलाई से बदलने वाले नियम आपके आर्थिक जीवन पर काफी असर डाल सकते है। इसी भारत सरकार ने लॉक डाउन से राहत देने के लिए कई नियमो मे ढील दी थी उनकी समय सिमा 30 जून को ख़तम हो रही है। 

बचत खाते पर न्यूनतम राशि रखने का नियम :

क्या बदला ?:
 आपको बता दे की भारत सरकार ने लोगो को कोरोना महामारी और लॉक डाउन से राहत देने के लिए बचत खाते मे कम से कम राशि रखने के नियम पर राहत दी थी। इसमे 30 जून तक न्यूनतम शेष राशि नहीं होने पर कुछ भी शुल्क नहीं लिया जायेगा। भारत सरकार की और से इसे आगे बढ़ाने का कोई एलान नहीं हुआ है। इसका मतलब 1 जुलाई से बैंक के नियमो के मुताबिक न्यूनतम शेष राशि रखने आपके लिए अनिवार्य होगा। 

आपके ऊपर क्या पड़ेगा असर :?
इसके मुताबिक आपको 1 जुलाई के बाद बैंक मे आपके बैंक ने दिए गे जानकारी के अनुसार न्यूनतम शेष राशि रखनी होगी नहीं तो आपको इसपर अतरिक्त शुल्क देना पड़ सकता है। हर एक बैंक के नियम अलग है और शुल्क भी। 

1 जुलाई से बदलेगा ATM निकासी का नियम :

क्या बदला :
भारत सरकार लॉक डाउन से राहत देने के लिए ATM कॅश निकासी के नियमो मे ढील दी थी इसका मुख्या उद्देश्य बैंक और ATM मे होने वाली बिड को कम करके कोरोना संक्रमण को रोकना था। इसके मुताबिक आप आप किसी भी बैंक के ATM से पैसे निकाल सकते थे। 30 जून को इसकी समयसीमा ख़तम हो रही है इसका मतलब आपको 1 जुलाई के बाद 5 से ज्यादा बार दूसरे ATM इस्तेमाल करने पर शुल्क देना पड़ेगा। 

आप पर क्या होगा असर :
समय सिमा ख़तम होने के बाद आपको 1 जुलाई से पुरे महीने मे सिर्फ 5 बार दूसरे बैंक का ATM निकासी का बिकल्प मिलेगा (हलाकि हर एक बैंक के नियम अलग है इसमे मेट्रो और ग्रामीण के लिए भी अलग नियम है )अगर आप इसके बाद ATM से पैसे निकलते है तो आपके बैंक खाते से उसका शुल्क लिया जाएगा। 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां