-->

सैलरी घटने से लोगो की सेविंग हुई कम SIP निवेश बंद कर रहे है लोग 6.5 लाख खाते हुए बंद

Last Updated :05:15 PM 

मुंबई :कोरोना महामारी के चलते लगाए गए सिर्फ 2 महीने के लॉक डाउन मे देश के हर एक आदमी की आर्थिक स्थिति को  ख़राब कर दिया है। कारोबार बंद रहने से लागत घटाने के लिए लोगो को काम से निकाला जा रहा है ,कई लोगो के सैलरी मे कटौती हो रही है। इससे लोग सेविंग नहीं कर पा रहे है। इसका असर SIP निवेश पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। SIP निवेश के बारे मे एसोसिएशन ऑफ़ मुफअतल फण्ड इंडिया ने कुछ आंकड़े जारी किये है। आंकड़ों के मुताबिक बंद किये गए SIP और नए SIP मिवेश का रेश्यो मई मे 81 फीसदी पर पहुंच गया है। जानकरी के मुताबिक मई के महीने मे 6 लाख 50 हजार से ज्यादा SIP निवेश बंद हुए। हलाकि 8 लाख नए SIP निवेश भी खुले लेकिन बंद करने वालो की संख्या सबसे अधिक है। 

SIP निवेश मई मे सबसे कम :

  • मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मई के कुल निवेश 8123 करोड़ रहा है जो की साल मे सबसे कम है। 
  • जानकारों की माने तो अगले महीने इसमे और गिरावट देखने को मिल सकती है। 
  • कोरोना महामारी के कारन बड़े बड़े शेयर गिरावट मे दिखाई दे रहे है इसी समय सैलरी कम होने के बजह से लोगो के पास कॅश की कमी हो रही है इसलिए खर्चा भी कम किया जा रहा है और निवेश भी। 
  • इसके आलावा कोरोना महामारी के समय लॉक डाउन मे शाखा बंद होने के कारन भी SIP निवेश कम हुआ। 

लोगो को सता रहा है नौकरी होने का दर :

  • इस समय के हालत को देखते हुए लोग ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहते है। 
  • SIP एक सुरक्षित लम्बे समय का निवेश है लेकिन जिस तरह से म्यूच्यूअल फण्ड बंद हो रहे है लोग ज्यादा रिस्क नहीं लेया चाहते है। 
  • जिन लोगो को कम सैलरी मिल रही है उन्हें कॅश की कमी हो रही है ऐसे मे उन्हें सेविंग करना मुश्किल हो गया है। 
  • वही कुछ लोग नौकरी जाने के डर से हाथ मे पैसा रखना चाहते है। .

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां