-->

EMI पर ब्याज माफ़ होगा या नहीं सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर RBI को दिया अधिक समय अब अगस्त मे होगी अगली सुनवाई

Last Updated :04:11 PM 

मुंबई :लोन EMI मोरोटोरियम मामले सुप्रीम कोर्ट मे आज सुनवाई हुई।इस ब्याज माफ़ी मामले मे सुप्रीम कोर्ट ने RBI और वित्त मंत्रालय को विचार करने के लिए और अधिक समय दिया है। सुप्रीम कोर्ट समय देने के लिए अगस्त के पहले हफ्ते तक सुनवाई को टाला है।  इस समय सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और RBI से पूछा की क्या मोरोटोरियम ब्याज पर वसूल सकते है..इसपर बैंक ने कहा समय मिलने पर ब्याज माफ़ी से बैंको पर पड़ने वाले कुल बोझ की जानकारी दी सकती है। 

लोग ब्याज के दर से नहीं ले रहे है मोरोटोरियम :

  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा की केंद्र सरकार ऐसा नहीं का सकती की ये बैंक और लोन लेने वालों के बिच का मामला है ,
  • सरकार ने लोगो को मोरोटोरियम लाभ का विकल्प दिया है लेकिन अतरिक्त ब्याज के डर के कारन लोग इस लाभ को लेना नहीं चाहते है। 

ब्याज पर ब्याज वसूलना गलत :

  • SBI ने इस बारे मे सुप्रीम कोर्ट मे जानकारी देते हए कहा की 90 फीसदी ग्राहकको ने मोरोटोरियम लाभ का विकल्प नहीं चुना है। 
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा की EMI मोरोटोरियम लाभ जिस उद्देश्य से दिया गया है उसे सरकार को पूरा करना चाहिए ब्याज पर ब्याज लेने से इसका कोई उपयोग नहीं है। 

बैंक माफ़ी से जमाकर्ता वो को होगा नुकसान :

  • सरकार ने इस बारे मे जानकारी देते हुए कहा की वित्त मंत्रालय ब्याज माफ़ी नहीं दे सकता। 
  • इससे बैंक मे बचत जमा करने वाले जमकारत्वो पर असर पड़ेगा। 
  • इसी समय बैंको के वित्तीय स्थिरता को नुकसान पहुंचेगा। 
  • वही बैंको ने कहा की दूसरे और से भी विचार करना जरुरी ब्याज माफ़ी विकल्प नहीं हो सकता। 

सुप्रीम कोर्ट मे की गयी थी याचिका दायर :

  • सुप्रीम कोर्ट मे दायर याचिका मे कहा गया की EMI मोहलत देकर उसके ऊपर 6 महीने का ब्याज लगाना गैर क़ानूनी है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां