-->

74 फीसदी चीनी हिस्सेदारी होने वाली ये फार्मा कंपनी ला रही है आईपीओ SEBI को दी जानकारी

Last Updated :05:50 PM 

मुंबई :74 फीसदी चीनी हिस्सेदारी होने वाली ग्लैंड फार्मा कंपनी नया आईपीओ लाने की तयारी मे है हैदराबाद की इस फार्मा कंपनी ने SEBI से आईपीओ लाने की मंजूरी के लिए आवेदन किया हलाकि इसकी खास बात यही है की इसमे चीन की हिस्सेदारी 74 फीसदी है। 

ग्लैंड फार्मा ;ला रही है आईपीओ :

  • कंपनी ने SEBI को किये आवेदन मे आईपीओ की मंजूरी मांगी है। 
  • सामान्य इस आईपीओ के जरिये 1250 करोड़ रुपये जुटाना चाहती है। 
  • इसी समय चीन की हिस्सेदारी देखते हुए आईपीओ जरा अलग ही नजर आ रहा है। 
  • इस आईपीओ को लेन के बाद ग्लैड फार्मा मे सार्वजनिक निवेशकको की हिस्सेदारी 25 फीसदी होगी। 
  • कंपनी ने कहा की इस आईपीओ की राशि को वर्किंग कैपिटल ,और कॉर्पोरेट जरूरतों को पूरा करने के लिए किया कयेगा। 

74 फीसदी है चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी :

  • कंपनी ने बताया की इस फ्रेश इशू के साथ शेयर धरकको के मौजूदा 3.48 करोड़ शेयर बेचना चाहती है। 
  • इसमे 1.93 करोड़ शेयर्स फॉउन फार्मा ,1 करोड़ शेयर ग्लैंड सेल्सस बायो केमिकल्स ,35 लाख शेयर एम्पोवेर ट्रस्ट। ,18.74 लाख शेयर निलय ट्रस्ट के है। 
  • इसमे चीन की फार्मा कंपनी फॉउन फार्मा के पास सिंगापूर के जरिये ग्लैंड फार्मा मे 74 फीसदी हिस्सेदारी है। 
  • इस कंपनी ने 2017 मे 1.1 अरब डॉलर मे ग्लैंड फार्मा की हिस्सेदारी खरीदी थी। 
  • हलाकि जानकारी के मुताबिक शुरवात मे कुल 86 फीसदी खरीद थी। 
  • लेकिन भारत सरकार के नियमो के बदलावों के कारन इसे 74 फीसदी किया गया। 
  • हलाकि ये सब निवेश चीन के सभी विवादों के पहले का है। 

भारत चीन LAC विवाद के कारन बिगड़े हुए है ब्यपरिक रिश्ते :

  • आपको बता दे की पिछले महीने 15 जून को भारत चीन LAC पर भारत के 20 जवान शहीद हो गए।
  • जिसके बाद विवाद बोहोत ज्यादा बढ़ा इसके बाद भारत ने 59 चीनी अप्प पर भी बंदी लगाई /
  • इसके आलावा चीनी व्यापर पर भी निर्बंध लगाये गए है। 
  • ऐसे समय इस आईपीओ बाजार पर कैसे चल जाता है ये देखने लायक होगा। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां