-->

31 जुलाई के पहले टैक्स बचाने के लिए करना चाहते है निवेश ये है सबसे बढ़िया टैक्स सेविंग निवेश विकल्प

Last Updated :11:03 AM 

मुंबई :इनकम टैक्स इंडिया की तरफ से सेक्शन 80C के तहत टैक्स बचाने के लिए निवेश करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई की है जो की पहले 30 जून थी। इस बढ़ी समयसीमा का फायदा उठाकर लोग टैक्स बचाने के लिए निवेश करना चाहते है लेकिन कौनसी योजना इसमे बेहतर होगी जिससे सबसे ज्यादा टैक्स बचाया जा सकता है ये नहीं जानते है। बाजार मे ऐसे बोहोत सारे निवेश विकल्प है जिनसे निवेश के जरिये टैक्स बचाया जा सकता है। 

1 NPS नेशनल पेंशन सिस्टम :

  • NPS एक रिटायरमेंट प्लानिंग योजना है जिसके जरिये आप रिटायरमेंट के लिए पूंजी जमा कर सकते है। 
  • इस योजना मे इनकम टैक्स के नियमो के तहत सेक्शन 80C मे 1 लाख 50 हजार तक का निवेश टैक्स फ्री होता है। 
  • इसके आलावा 80 CCD के तहत अतरिक्त 50 हजार का टैक्स लाभ भी शामिल है। 
  • इसके आलावा एम्लोयर के तरफ से 10 फीसदी बेसिक सैलरी का योगदान NPS मे जमा कर दिया जाता है तो उसपर भी टैक्स छूट मिलती है। 
  • हलाकि आपको 60 साल बाद 40 फीसदी की राशि की एन्युटी खरीदनी पड़ती है जिसमे मिलने वाले पेंशन पर आपको टैक्स देना पड़ता है। 

2 ELSS इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम :

  • इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम एक म्यूच्यूअल फण्ड प्लान होता है। 
  • इस प्लान मे भी 1.5 लाख की निवेश राशि पर 80 C के तहत टैक्स छूट मिलती है। 
  • आप इस प्लान मैं 3 साल के पहले पैसे नहीं निकाल सकते है सबसे बड़ी बात इस प्लान मे आपको 15 से 18 फीसदी तक की रिटर्न मिल सकती है लेकिन रेटेन की गारंटी फिक्स्ड नहीं होती है। 
  • इसका प्रमुख कारन ELSS फण्ड शेयर बाजार इक्विटी मे निवेश करता है। 
  • ELSS फण्ड टैक्स सेविंग और एक सबसे ज्यादा रेटेन देने का निवेश विकल्प सिर्फ बाकि निवेश के मुकाबले इसमे रिस्क ज्यादा है। 

3 सुकन्या समृद्धि योजना :

  • सुकन्या समृद्धि योजना एक छोटी बचत योजना है जो की बेटी बचाओ अभियान के अंतर्गत शुरू की गयी थी। 
  • इस योजना की सबसे बड़ी खासियत इसका ब्याजदर बाकि सभी योजनेवो मे सबसे ज्यादा है। 
  • सबसे पहले आपके निवेश के 1 लाख 50 हजार की राशि पर आपको सेक्शन 80 C के तहत टैक्स छूट मिलति है। 
  • इसके बाद इस योजना मे मिलने वाला ब्याज भी तरह से टैक्स फ्री होता है। 
  • इसके बाद इस प्लान मे मचोरिटी राशि जो की बच्चो 21 साल की होने के बाद मिलती है वो भी पूरी तरह से टैक्स फ्री होती है। 

4 पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड (PPF ):

  • PPF का ब्याजदर भी काफी अच्छा होता है इस समय PPF 7.1 फीसदी के दर से ब्याज देता है। 
  • PPF योजना मे आपको 15 साल तक निवेश करना पड़ता है। 
  • इसमे भी आप 1 लाख 50 हजार की राशि पर सेक्शन 80 C के तहत टैक्स छूट का लाभ उठा सकते है। 
  • आप इस योजना मे हर महीना सिर्फ 500 रुपये के निवेश से शुरवात कर सकते है। 

5 ULIP यूनिट लिंक्ड इन्शुरन्स प्लान :

  • ULIP यूनिट लिंक्ड इन्शुरन्स प्लान एक सबसे अच्छा टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट विकल्प होता है। 
  • ULIP प्लान को इन्शुरन्स कंपनी की तरफ से शुरू किया जाता है। 
  • इस प्लान मे आप 5 साल पहले राशि को नहीं निकल सकते है। 
  • यूनिट लिंक्ड इन्शुरन्स प्लान मतलब आपको फण्ड विकल्प दिए जाते है उनमे आपको निवेश लगाना पड़ता  है। 
  • .इस पालिसी मे प्रीमियम की राशि पर आपको सेक्शन 80 C के तहत टैक्स छूट मिलती है। 

6 नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट NSC :

  • NSC पोस्ट ऑफिस द्वारा शुरू की गयी एक टैक्स सेविंग निवेश विकल्प है। 
  • इसमे आपको सेक्शन 80C के तहत 1 लाख 50 हजार के निवेश पर टैक्स छूट मिलती है। 
  • इसके आलावा जो ब्याज आपको NSC पर मिलता है जो आपके निवेश के राशि मे अड़ किया जाता है जिसपर भी टैक्स नहीं लिया जाता है। 
  • इसके आलावा NSC के दूसरे निवेस साल से आप टैक्स डिडक्शन के लिए के लिए क्लेम कर सकते है। 

7 SCSC सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम :

  • वरिष्ठ नागरिकको की बचत योजना से भी आप निवेश पर टैक्स लाभ ले सकते है। 
  • इस योजना से 60 साल बाद आपको मचोरिटी की राशि दी जाती है। 
  • ये योजना 5 साल के लॉक इन समय के साथ आती है। 
  • आप कम से कम 1 हजार रुपये से निवेश शुरू कर सकते है। 
  • इस योजना मे भी आपको 1.5 लाख के राशि पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट मिलती है। 

8 इन्शुरन्स :

  • आपको किसी भी इन्शुरन्स की प्लान पर टैक्स छूट का लाभ मिल सकता है। 
  • इन्सुरन्स के प्रीमियम पर सेक्शन 80 C के तहत टैक्स छूट मिल सकती है। 
  • इसके आलावा मचोरिटी की राशि 1 लाख 50 हजार तक टैक्स छूट के लिए पात्र होती है। 

9 बैंक फिक्स्ड डिपाजिट :

  • बैंक की FD पर भी आपको 1.5 लाख तक के निवेश पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट मिलती है। 
  • बैंक FD एक पूरी तरह से गारंटीड रिटर्न योजना होती है। 
  • हलकी इसपर मिलने वाला ब्याज इनकम माना जाता है जिसपर आपको टैक्स देना पड़ता है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां