-->

डेट फण्ड मे बढ़ रही लोगो की दिलसचस्पी जाने क्या होते है डेट फण्ड और कैसे है निवेश के फायदे ?

Last Updated :05:00 PM 

मुंबई :कोरोना महामारी के बाद लोगो की दिलचस्पी डेट फण्ड मे बढ़ती दिखाई दे रही है। इसका प्रमुख कारन अन्य निवेश योजनाओ के घटते ब्याजदर बताया जा रहा है।कोरोना महामारी से राहत देने के लिए RBI ने रेपो रेट मे 2 बार कटौती की है जिसके बाद लोन ब्याजदर काफी कम हो गयी है जो की ग्राहकको के लिए अच्छी बात है लेकिन इसके कारन अब बैंक FD ब्याजदर मे भी बैंको ने काफी कटौती की है SBI मे इस समय 1  साल की FD पर 5.10 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है। जिसके बाद नए FD खाते नहीं खोले जा रहे है। इसी समय छोटी बचत योजनए जैसे की PPF मे भी सरकार ने पिछली तिमाही मे ब्याजदरों को घटाया हलाकि इस तिमाही के ब्याजदरों मे कोई बदलाव माहि किया गया है। लेकिन इस बात से निवेशकको की दिलचस्पी कम हो गयी है। इसी समय डेट फण्ड एक विकल्प है जो बैंक FD से ज्यादा ब्याज दे रहा है। 

क्या होते है डेट फण्ड :

  • डेट फण्ड म्यूच्यूअल फण्ड का ही एक प्रकार है जिसे आप म्यूच्यूअल फण्ड हाउस के जरिये खरीद सकते है। 
  • डेट फण्ड मे फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज मे निवेश किया जाता है जैसे गवर्नमेंट सिक्योरिटीज ;,कॉर्पोरेटर बांड ,सर्टिफिकेट ऑफ़ डिपाजिट ,ट्रेज़री बिल , .
  • डेट फण्ड काफी सुरक्षित माने जाते है जिसमे बिना जोखिम लिए आपको एक स्थिर इनकम मिल जाती है। 
  • जोखिम ना होने के बाद भी FD और अन्य छोटी निवेश योजनाओ से ज्यादा लाभ मिलने के कारन इन दिनों डेट फण्ड काफी लोकप्रिय निवेश विकल्प बन रहा है। 

डेट फण्ड की विशेष बातें :

  • डेट फण्ड के जरिये आपके पैसे सिक्योरिटीज मे निवेश किये जाते है जो एक निश्चित और स्थिर दर से आपको ब्याज देते है इस तरह के डेट फण्ड रिटर्न की गारंटी देते है। 
  • डेट फण्ड मे निवेश करने के बाद अगर आप 3 साल तक इसे होल्ड करते है तो आपको इंडेक्श्न लाभ मिलता है ,इंडेक्श्न लाभ मतलब टैक्स मे छूट मिलती है.
  • डेट फण्ड मे निवेश के बाद आपको TDS नहीं देना पड़ता है जो बैंक FD मे काटा जाता है। 
  • डेट म्यूच्यूअल फण्ड की सबसे खास बात आप इस फण्ड से सिर्फ जरुरी राशि को निकल सकते है। 
  • मतलब आप आपके डेट म्यूच्यूअल फण्ड निवेश को 1 रुपये के यूनिट मे अलग कर सकते है और उतनी राशि को निकल सकते है। 
  •  जब की बैंक FD मे आप ऐसा नहीं कर सकते आपको पूरी FD की बंद करनी पड़ेगी तब ही आप पैसे निकल सकते है। 
  • इसके आलावा सबसे बड़ी बात डेट फण्ड मे बैंक FD और अन्य छोटी बचत योजनाओ के मुकाबले इस समय ज्यादा रिटर्न मिल रही है.
  • डेट फण्ड मे आपको सालाना 7 से 8 फीसदी की रिटर्न मिल सकती है जो की सुरक्षित निवेश योजना के अनुसार काफी अच्छी मानी जा सकती है। 

डेट म्यूच्यूअल फण्ड की होल्डिंग :

  • डेट म्यूच्यूअल फण्ड का पोर्टफोलिओ अच्छी तरह से डाइवर्सिफाई किया जाता है जिससे रिस्क कम होने मे मदत होती है। 
  • डेट के पोर्टफोलिओ होल्डिंग मे सबसे ज्यादा निवेश कमर्शियल पेपर  मे होता है। 
  • उसके बाद NCD बांड्स मे 10 फीसदी तक निवेश होता है। 
  • ट्रेजरी बिल्स मे 20 से 25 फीसदी निवेश होता है। 
  •  निवेश सर्टिफिकेट ऑफ़ डिपाजिट मे 10 फीसदी तक और सरकारी बॉन्ड मे 5 फीसदी तक निवेश होता है हर एक डेट फंड के मे इन आंकड़ों मे बदल होता है लेकिन निवेश को अलग रखने कि कोशिश हर जगह होती है। 

1 दिन से लेकर लम्बे समय तक कर सकते है डेट फण्ड मे निवेश :

  • आपको जितने दिन निवेश करना है आप उसके आधार पर डेट म्यूच्यूअल फण्ड को चुन सकते है। 
  • इसमे 1 दिन के लिए ओवरनाइट डेट फण्ड होते है। 
  • 3 महीने के लिए लिक्विड फण्ड अच्छे होते है। 
  • 1 से 6 महीनो के लिए अल्ट्रा शार्ट टर्म डेट फण्ड अच्छा होता है। 
  • 6 से 12 महीनो के लिए लौ दुरेशन फण्ड चुन सकते है। 
  • इसके आलावा 2 से 3 साल के निवेश के लिए कॉर्पोरेट बॉन्ड फण्ड मे निवेश कर सकते है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां