-->

करेंसी ट्रेडिंग कैसे शुरू करे और कैसे खोल सकते है खाता यहाँ जाने पूरी जानकारी

Last Updated :01:03 PM 

मुंबई : अगर करंसी ट्रेडिंग करना चाहते है तो सबसे पहले आपको करंसी ट्रेडिंग की बुनियादी बातो को समझाना ज्यादा जरुरी है। करंसी  ट्रेडिंग हर देशो के करंसी के जरिये की जाती है आपको बता दे की हर एक देश की करंसी उसके शेयर बाजार और बिज़नेस मे होने वाली घटनाओ के आधार पर बदलते रहते है। करंसी ट्रेडिंग दुनिया का सबसे बड़ा बाजार माना जाता है कारन इसमे सभी देशो के करंसी की ट्रेडिंग की जा सकती है। शेयर बाजार मे करंसी ट्रेडिंग मे भी अच्छी कमाई की जा सकती  है इसके लिए बस इसको ठीक से समझाना जरुरी है।करंसी ट्रेडिंग को फोरेक्स ट्रेडिंग भी कहा जाता है इसमे विदेशी कमनीय भी ब्रोकर सेवाएं देती है जिसमे OCTA FX ,NORD FX जैसे स्टॉक ब्रोकर शामिल है। 
 

कैसे करते है करंसी ट्रेडिंग :

  • करंसी ट्रेडिंग पूरी तरह से ऑनलाइन होती है आपको इसके लिए लोग इन आय डी और पासवर्ड दिया जाता है। 
  • जिसके जरिये आपको करंसी ट्रेडिंग मे लोग इन करना होता है। 
  • लोग इन होने के बाद आपको करंसी ट्रेडिंग का प्लेटफार्म दिखाई देता है जिसपर अलग अलग देशो की आज की करंसी रेट्स और उसके बढ़त गिरावट की जानकारी दिखाई जाती है। 
  • करंसी ट्रेड करने के पहले आपको ट्रेडिंग खाते मे मार्जिन की राशि जमा करनी पड़ती है। 
  • मार्जिन की जानकारी आपको आपके स्टॉक ब्रोकर के जड़िये दी जाती है हलाकि ये शेयर बाजार के अस्थिरता के कारन बदलती रहती है। 
  • भारत मे प्रमुख तौर पर USD /INR  ,EURO/INR JPY /INR  GBP /INR इन विकल्पी मे ट्रेडिंग होती है इसमे सबसे ज्यादा ट्रेडिंग USD \/INR मे ही होती है। 
  • सबसे बड़ी बात आप करंसी ट्रेडिंग सोमवार से शुक्रवार सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक ही कर सकते है।
  • इसमे वायदा ट्रेड के लिए लोट साइज 1 हजार प्रति ट्रेड होती है हलाकि JPY/INR के लिए लोट साइज 1 लाख पर ट्रेड है। 

कैसे होता है नफा और नुकसान :

  • ऐसा समझ लीजिये की आप USD/INR मे करंसी ट्रेड कर रहे है और आपको ऐसा लगता है की USD की कीमत बढ़ सकती है। 
  • तो आप USD/INR मे वायदा खरीद लेंगे ऐसा करने पर USD की कीमत बढ़ने पर आपको नफा होगा।
  • वही अगर आपको लगता है की USD  की कीमत गिर सकती है तो आप USD/INR को बेच देगा।

करंसी ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट खाता है जरुरी :

  • करंसी ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास डीमैट खाता होना जरूरी है इसके लिए अगर आप पहले से शेयर बाजार मे ट्रेडिंग करते है तो उसी ब्रोकर के जरिये करंसी ट्रेडिंग कर सकते है। 
  • इसके लिए कई स्टॉक ब्रोकर उसी खाते मे करंसी ट्रेडिंग करने का सकल्प देते है तो कुछ स्टॉक ब्रोकर मे आपको अलग से नया करंसी त्रादंग खाता खोलना पड़ता है। 
  • किसी भी धोखाधड़ी से बचने के लिए करंसी ट्रेडिंग के लिए SEBI रेजिस्ट्रेड ब्रोकर ही चुने इससे आप क़ानूनी तरीके से सुरक्षित रह सकते है।
  • खासतौर ओर ऐसा ही ब्रोकर चुने है जो बाकि ट्रेड के साथ करंसी ट्रेडिंग का भी विकल्प देता हो। 
  • इसके आलावा आपको उसका ब्रोकरेज शुल्क , और अन्य सुविधा जांचने के बाद ही ब्रोकर को चुनना चाहिए। 
  • एक ही ब्रोकर डीमैट खाते पर ट्रेडिंग खाता होने पर आपको अलग से दस्तावेज भी नहीं देने पड़ते और ट्रेडिंग करना भी आसान हो जाता है। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां