-->

ESIC क्लेम के लिए आवेदन कैसे करे और कौन कौन से जरुरी दस्तावेज देने पड़ते है यहाँ जाने पूरी जानकारी

ESIC कर्मचारी राज्य बिमा निगम इसके जरिये कम इनकम होने वाले कर्मचारी वर्ग को स्वस्थ सेवा का लाभ लेने के लिए बिमा कवर मिलता है। इस योजना के जरिये फैक्ट्री तथा कारखाने मे काम करने वाले  कर्मचारी जिनकी सैलरी हर महीने 21 हजार से कम है उन्हें अस्पताल मे भर्ती होने के बाद इलाज का खर्चा डिस्पेंसरी का क्लेम मिलता है। इसके लिए हर एक कर्मचारी को ESIC पहचान कार्ड जारी किया जाता है इस कार्ड के जरिये ESIC अस्पतालों मे कॅश लेस्स इलाज वही अन्य अस्पतालों मे इलाज का खर्चा क्लेम फाइल करने के बाद मिलता है। 


ESIC की कुछ महत्वपूर्ण बातें:

  • इस समय पुरे देश भर मे ESIC के जरिये कॅश लेस्स इलाज देने वाली 151 अस्पताल है आप इन अस्पतालों को लिस्ट ESIC की अधिकृत वेबसाइट पर जाकर देख सकते है। 
  • ESIC अस्पतालों मे गंभीर से लेकर सामन्य सभी तरह के इलाज की सुविधा होती है। 
  • केंद्र सरकार ने जारी किये नए नियमो के मुताबिक 10 या उससे ज्यादा कर्मचारी होने वाले कंपनी को ESIC सुविधा अनिवार्य  है। 
  • हलाकि अगर आपकी सैलरी 21 हजार से ज्यादा है तो आपको ये लाभ नहीं मिलेगा। 
  • आपको बता दे की ESIC मे आपका और कंपनी का योगदान शामिल होता है। 
  • ESIC मे कुल 4 फीसदी का योगदान जमा किया जाता है इसमे 3.25 फीसदी  कंपनी की और से और 0.75 फीसदी आपके सैलरी से जमा किया जाता है। 

ESIC मे रजिस्ट्रेशन की प्रोसेस :

  • ESIC का रजिस्ट्रेशन आपकी कंपनी करती है जिसके बाद आपको पहचान कार्ड दिया जाता है। 
  • आपको इस पहचान कार्ड  पर आपके पास के एरिया के ESIC ऑफिस मे जाकर ESIC कर्मचारी के हस्ताक्षर और स्टाम्प लेना होता है। 
  • फिर इन दस्तावेजों को आपके कंपनी के द्वारा दिए गए अस्पताल डॉक्टर के पास जाकर रजिस्टर करना होता है। 
  • इसके बाद उस अस्पताल मे जाकर कॅश लेस्स तरीके से स्वस्थ सेवाओ का लाभ ले सकते है। 

ESIC मे कर्मचारी को मिलने वाले फायदे :

  • ESIC के जरिये सिर्फ आप ही नहीं बल्कि आपके परिवार के सदस्यों का भी इलाज किया जा सकता है इसके लिए आपके परिवार के लोगो का नाम आपके पहचान कार्ड पर होना जरुरी है। 
  • ESIC मे महिला कर्मचारी को मैटरनिटी लाभ मिलता है इस दौरान डिलीवरी तक के 26 सप्ताह औसत दैनिक सैलरी के 100 फीसदी राशि भुगतान की जाती है। 
  • पर्मनेंट डिसेबिलिटी के समय ESIC पुरे जीवन भर के लिए मासिक पेंशन का भुगतान भी करती है। 
  • कंपनी मे काम करते वक़्त अगर किसी कर्मचारी की मौत हो जाती है तो उसके परिवार को एकमुश्त राशि तथा पेंशन लाभ भी दिया जाता है। 
  • रिटायर होने के बाद भी कंपनी के कर्मचारी को ESIC अस्पतालों मे दवा एव चिकित्सा लाभ दिया जाता है। 
  • ESIC बीमित व्यक्ति की काम पर मृत्यु होने के बाद सके अंतिम संस्कार के लिए 15 हजार रुपये तक की नकद राशि भुगतान की जाती है। 

ESIC मे इलाज के बाद क्लेम के लिए आवेदन करने की प्रोसेस :


ESIC मे अगर आप ESIC अस्पतालों मे इलाज कर रहे है तो आपको कॅश लेस्स क्लेम की सुविधा मिलेगी मतलब आपको इलाज के लिए पैसे नहीं देने होंगे आपको सिर्फ पहचान कार्ड दिखाना होगा बाकि का काम अस्पताल और ESIC कर देती है लेकिन अगर आप किसी अन्य निजी अस्पताल मे इलाज कर रहे है तो आपको अलग से ESIC क्लेम के लिए आवेदन करना होगा। 

निजी अस्पताल मे इलाज के बाद ESIC क्लेम आवेदन प्रोसेस :

  • किसी निजी अस्पताल मे इलाज करने के बाद आप ESIC मे क्लेम फाइल कर सकते है हलाकि आपको अस्पताल का पूरा खर्चा खुद चुकाना होगा। 
  • इसमे अस्पताल मे भर्ती होने के बाद अस्पताल के बिल ,दवाइयों की पर्ची अन्य टेस्ट रिपोर्ट सभी ठीक से रखने होंगे। 
  • डिस्चार्ज के समय सभी दस्तावजों पर अस्पताल के डॉक्टर का हस्ताक्ष्रर और स्टाम्प आपको लेना है आपको सारे दस्तावेज एक फाइल मे रखने है। 
  • इसके बाद आपको आपके अस्पताल की फाइल और आपके बैंक पासबुक की ज़ेरोक्स कॉपी ,आपका ESIC पहचान कार्ड उसकी ज़ेरॉक्स कॉपी लेकर ESIC के ऑफिस जाना है। 
  • यहाँ पर आपको एक फॉर्म मिलेगा जिसमे ;क्लेम क्लेम आवेदन फॉर्म होगा आपको इसमे ESIC पहचान कार्ड की जानकारी और आपकी पूरी बिल की कुल राशि लिखनी है। 
  • इस फॉर्म के आखिरी जगह पर आपको आपके दवाइयों के बिल का विवरण भी लिखकर देना है (याद रहे है हर बिल रसीद पर हस्ताक्षर और स्टाम्प होना अनिवार्य है )
  • सभी जानकारी आपको ESIC अधिकारी को दिखानी है और उसके बाद दस्तावेज और फॉर्म को सबमिट कर देना है। 
  • अगले 2 से 3 महीने मे आपकी क्लेम की राशि आपके बैंक खाते पर भेज दी जाती है। 


ESIC क्लेम आवेदन करने के लिए जरुरी दस्तावेज :

  • आपके ESIC पहचान कार्ड की ज़ेरॉक्स कॉपी इसमे आपके परिवार का फोटो भी लगा होना चाहिए। 
  • बैंक पासबुक की ज़ेरॉक्स कॉपी या फिर आप ब्लेंक चेक भी सबमिट कर सकते है। 
  • अगर इमरजेंसी तरह से अस्पताल मे भर्ती किया गया है तो उसका इमरजेंसी सर्टिफिकेट। 
  • अस्पताल से डिस्चार्ज लेने के बाद मिलने वाला डिस्चार्ज कार्ड उसपर डॉक्टर के हस्ताक्षर और स्टाम्प होना अनिवार्य। 
  • अस्पताल मे भर्ती होने के बाद के इन डोर पेपर्स IPD नोट्स इसपर भी  डॉक्टर के हस्ताक्षर और स्टाम्प होना अनिवार्य। 
  • अस्पताल मे डिस्चार्ज लेने के समय भरा हुआ बिल डॉक्टर के हस्ताक्षर और स्टाम्प होना अनिवार्य। 
  • डॉक्टर से ली गयी दवा पर्ची ल डॉक्टर के हस्ताक्षर और स्टाम्प होना अनिवार्य। 
  • इलाज के दौरान लिए गए सभी तरह के दवाईओयो का बिल जिसपर उस मेडिकल से हस्ताक्षर और स्टाम्प लेना है। 
  • इलाज के दौरान किये गए सभी टेस्ट का रिपोर्ट और उनके बिलो का विवरण जैसे की MRI ,X RAY ,सोनोग्राफी ,ब्लड टेस्ट 
  • अगर ऑपरेशन किया गया है तो ऑपरेशन नोट्स उसपर भी अस्पताल का सही शिक्का लेना है। 
  • अगर कोई इम्प्लांट सर्जेरी की गयी है तो उसके इलाज का बिल रिपोर्ट। 
  • अगर मरीज कि मृत्यु हो गयी है तो जिस अस्पताल मे मौत हुई है वह का सही और शिक्का लेकर सर्टिफिकेट लेना है। 
  • और है सबसे जरुरी बात अगर आपके घर के किसी सदस्य के इलाज का क्लेम फॉर्म भर रहे है तो आपके ESIC पहचान कार्ड पर उसका नाम होना अनिवार्य है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां