-->

मिराए एसेट इक्विटी एलोकेटर फंड ऑफ फंड क्या करना चाइये निवेश जानिए खास बातें

 घरेलू इक्विटी एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स की इकाइयों में मुख्य रूप से निवेश करने वाली एक ओपन एंडेड योजना



हाइलाइट्स:


लार्ज-कैप और मिड-कैप के लिए कम लागत का एक्सपोजर पाने का लक्ष्य
निवेशक डीमैटै अकाउंट खोले बिना एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) से ऋण जोखिम प्राप्त कर सकते हैं
फंड ऑफ फंड में निवेश करते समय निवेशक इक्विटी कराधान का लाभ उठा सकते हैं
निवेशक कम लागत वाले ईटीएफ में निवेश करने के लिए म्यूचुअल फंड (एमएफ) संरचना का उपयोग करके लाभ उठा सकते हैं। निवेशक व्यवस्थित निवेश योजना यानी एसआईपी के माध्यम से निवेश कर सकते हैं।
निवेशक द्वारा सीधे पोर्टफोलियो रीबैलेंसिंग से जुड़ी लागत और कर को घटाता और समाहित करता है।
जब बाजार की गतिशीलता में परिवर्तन होता है तो आवंटन को संतुलित करता है।
नियम-आधारित मार्केट कैप आवंटन मॉडल के साथ नाममात्र अल्फा प्रदान करना चाहता है।



मुंबई, 8 सितंबर 2020: मिराए एसेट इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स इंडियादेश के सबसे तेजी से बढ़ते फंड हाउसों में से एक हैजिसने आज मिराए एसेट इक्विटी एलोकेटर फंड ऑफ फंड शुरू करने की घोषणा की हैजो घरेलू इक्विटी एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स की इकाइयों में मुख्य रूप से निवेश करने वाली एक ओपन एंडेड योजना है।


एनएफओ सब्सक्रिप्शन के लिए सदस्यता के लिए सितंबर, 2020 को खुलेगा और 15 सितंबर, 2020 को बंद होगा। फंड को निफ्टी 200 इंडेक्स (टीआरआई) के साथ बेंचमार्क किया जाएगा और सुश्री भारती सावंत द्वारा मैनेज होगा। फंड निफ्टी 50 ईटीएफनिफ्टी नेक्स्ट 50 ईटीएफ और मिडकैप 150 ईटीएफ में लार्च और मिडकैप सेगमेंट ऋण जोखिम के साथ सक्रिय परिसंपत्ति आवंटन का पालन करेगी।


निवेशक बिना डीमैट अकाउंट के भी इस फंड ऑफ फंड में निवेश कर सकते हैं और इस तरह ईटीएफ तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं। मिराए असेट इंवेस्टमेंट मैनेजर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ स्वरूप मोहंती ने कहा कि जैसे-जैसे कोविड-19 का प्रसार जारी हैबाजार में उतार-चढ़ाव मध्यम अवधि तक मौजूद रहने की संभावना है। ऐसी स्थिति में इक्विटी के भीतर आवंटनविभिन्न श्रेणियों में विविधता और मार्केट कैप आवंटन को बनाए रखने के लिए पोर्टफोलियो को लगातार रिबैलेंस करना निवेशकों के लिए चुनौती बन जाता है। मिराए एसेट इक्विटी एलोकेटर फंड ऑफ फंड निवेशकों को इस चिंता से निपटने में मदद करने का प्रयास करता है कि इक्विटी में सबसे अधिक अवसर उपलब्ध होंइसके परिणामस्वरूप न्यूनतम लागत पर बाजार के परिदृश्य के आधार पर पोर्टफोलियो को सक्रिय रूप से पुनर्संतुलित करके रिटर्न के अनुकूल करना है। फंड ऑफ फंड इक्विटी फंड कराधान के लाभों के साथ कम लागत वाले ईटीएफ में अंतर्निहित निवेश करने के लिए एमएफ संरचना का उपयोग करने का लाभ प्रदान करता है। निवेशक अपनी लंबी अवधि की योजना के लिए एसआईपी मोड में निवेश कर सकते हैं और उन्हें निवेश करने के लिए डीमैट खाते की भी आवश्यकता नहीं है।

योजना में न्यूनतम प्रारंभिक निवेश 5000 रुपए होगा और उसके बाद एक रुपए के मल्टीपल में किया जाएगा।निवेश का लक्ष्य कम लागत वाले ईटीएफ और लंबी अवधि के पूंजीगत लाभ / आय के साथ मध्यम उच्च जोखिम के साथ मार्केट रिटर्न उत्पन्न करना है। मिराए एसेट इक्विटी एलोकेटर फंड ऑफ फंड रेगुलर प्लान और डायरेक्ट प्लान के साथ ग्रोथ ऑप्शन और डिविडेंड ऑप्शन (पे-आउट एंड रि-इन्वेस्टमेंट) की पेशकश करेगा।

 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां