-->

नया वेज कोड जाने कितना असर होगा आपके सैलरी के ऊपर कितना कटेगा PF और अन्य बदलाव

इस साल 1 अप्रैल 2021 से नया लेबर कोड वेज कोड लागू होने जा रहा है जिसके कारन लगभग सभी लोगो के सैलरी बेस मे अगले साल से बदलाव देखने को मिल सकता है। इस नए वेज कोड की खास बात ये है की आपका बेसिक पे जो है वो कंपनी के CTC कॉस्ट टू कंपनी ज्यादा से ज्यादा  50 फीसदी हो सकता है । इसका मतलब  इसके कारन आपके नेट टेक होम सैलरी कम हो सकती है हलाकि इसी समय ग्रेचुइटी और PF योगदान मे बढ़ोतरी हो सकती है। यह बदलाव लागू होने के बाद कंपनी पर भी बोझ बढ़ सकता है। 


क्या है बया वेज कोड 2021 :(New Wage Code 2021)

  • जब कंपनी आपको ऑफर लेटर देती है तब आपके सैलरी स्ट्रक्चर को विस्तार से समझाती है यह सैलरी स्ट्रक्चर सरकार के वेज कोड के मुताबिक तय किया जाता है। 
  • अगर आप आपके सैलरी स्ट्रक्चर पर ध्यान देंगे तो आपको दिखेगा की आपके सैलरी मे बेसिक पे+डिअरनेस अल्लोवेन्स और स्पेशल अल्लोवेन्स जैसे प्रमुख स्ट्रक्चर होते है। 
  • इसके आलावा हाउस रेंट अल्लोवेन्स +कन्वीन्यन्स और बोनस और ओवर टाइम अल्लोवेन्स भी शामिल होता है। 
  • अब नए वेज कोड के अनुसार आपका  बेसिक पे+ डिअरनेस अल्लोवेन्स + स्पेशल अल्लोवेन्स  महीने की राशि कंपनी की CTC कॉस्ट टू कंपनी होगी ये राशि आपके कुल सैलरी के 50 फीसदी होनी ही चाहिए। 
  • और  हाउस रेंट अल्लोवेन्स +कन्वीन्यन्स और बोनस और ओवर टाइम अल्लोवेन्स की कुल राशि कुल सैलरी के 50 फीसदी होनी चाहिए।

क्यों बदल रही है सरकार वेज कोड :

  • केंद्र सरकार इस नए वेज कोड के जरिये सभी कर्मचारीओ के भविष्य के फण्ड को बढ़ाना चाहती है जिसे कोरोना जैसे समय मे लोगो को कॅश की कमी ना हो। 
  • इस नए वेज कोड के जरिये लोगो की रिटायरमेंट लाइफ अच्छी बनाने का भी उद्देश्य सरकार का है। 

क्या होता है CTC ?

  • CTC मतलब कॉस्ट टू कंपनी मतलब डिडक्शन के पहले की ग्रॉस सैलरी। 
  • CTC मे आपकी बेसिक सैलरी +HRA +और अन्य अल्लोवेन्सेस शामिल होते है। 

कहा कहा पड़ेगा असर :

 बेसिक पे :

  • अभी चालू वेज कोड के अनुसार सलैरी स्ट्रक्चर मे बेसिक पे और DA इन बुनियादी चीजों को रक्खा जाता है। 
  • यह बेसिक सैलरी ग्रॉस सैलरी के 30 से 50 फीसदी के बिच होती है इसके बाद बाकि 50 से 70 फीसदी हिस्सा अन्य अल्लोवेन्सेस का होता है। 
  • लेकिन अब नए वेज कोड के अनुसार बेसिक पे DA इनको कर्मचारी के CTC के 50 फीसदी रखना ही होगा ,
  • जिसके कारन अब कंपनी को कर्मचारी के बेसिक पे को नए वेज कोड के अनुसार रखना अनिवार्य होगा। 

PF फण्ड मे जाने वाली राशि :

  • जैसे आपको पता होगा की आपकी PF की राशि आपके बेसिक पे राशि पर 12 फीसदी कटी जाती है। 
  • अब नए वेज कोड के अनुसार बेसिक पे और DA 50 फीसदी होगा इसका मतलब PF का योगदान भी इस 50 फीसदी पर ही काटा जायेगा। 
  • इसके कारन आपकी PF खाते मे जमा होने वाली बढ़ सकती है उसी समय आपकी नेट सैलरी कम हो सकती है। 

ग्रैचुइटी की राशि :

  • PF के जैसे ही आपकी ग्रैचुइटी की राशि आपके बेसिक सैलरी पर काटी जाती थी। 
  • नए वेज कोड के अनुसार अब इसे भी 50 फीसदी पर काटे जाने से इसमे भी इजाफा हो सकता है। 
  • इसी समय फिक्स्ड समय के लिए कॉन्ट्रैक्ट वाले कर्मचारीओ को भी ग्रैचुइटी मिल सकती है। 
  • इसके लिए उस कंपनी मे 5 साल पुरे करने का नियम अब नहीं रहेगा। 

कितनी होगी इन हैंड सैलरी :

  • ऐसा समझ लीजिये की एक आदमी की सैलरी 10 हजार महीना है तो कुल CTC से उसका बेसिक होगा 5 हजार रुपये। 
  • और इसी बेसिक राशि पर आपका 12 फीसदी PF काटा जायेगा जो होगा 600 रुपये। 
  • इसी समय बेसिक से ही  5 फीसदी ग्रैचुइटी की राशि होगी 250 रुपये। 
  • अब बेसिक पे 5 हजार से PF 600 रुपये और ग्रैचुइटी 250 काटने के बाद बेसिक हो जायेगा 4150 रुपये। 
  • फिर कर्मचारी को बेसिक 4150 और 5 हजार बाकि अल्लोनेसेस मिलकर कुल इन हैंड सैलरी 9150 मिल जाएगी। 

आप पर कितना पड़ेगा असर ?

  • इस नए वेज कोड के कारन देखा जाए तो बड़े सैलरी पैकेज वाले लोगो पर इतना ज्यादा असर नहीं पड़ेगा क्यों की उनकी सैलरी पहले से ही CTC के 50 फीसदी होती है। 
  • लेकिन इसका बड़ा असर कम सैलरी पैकेज वाले कम इनकम वाले लोगो के ऊपर पड़ेगा ऐसे लोगो की नेट इन हैंड सैलरी होगी कम। 
  • हर रक कंपनी को इस नए वेज कोड को अपनाने के लिए अपने सैलरी स्ट्रक्चर और पालिसी मे करना पड़ेगा बदलाव। 
  • नए वेज कोड के कारन प्रोविडेंट फण्ड और ग्रैचुइटी मे जाने वाले योगदान मे होगी बढ़ोतरी। 
  • हलाकि इसके कारन लोगो की रिटायरमेंट लाइफ अच्छी हो सकती है इससे लोगो की सविग बढ़ सकती है म्यूच्यूअल फण्ड मे जाने वॉर राशि पर अच्छा ब्याज मिलता है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां