-->

Bank Fixed Deposit निवेश क्या अब भी है फायदेमंद यहाँ जाने पूरी जानकारी

Bank FD भारत मे सबसे पुराना और विश्वनीय निवेश प्रकार है। 10 साल पहले के समय लोग निवेश सोचते थे तब उनके मन मे बैंक फिक्स्ड डिपाजिट यही एक विकल्प आता था। FD के जरिये माता पिता बच्चो की शिक्षा शादी रिटायरमेंट के लक्ष्य के लिए एक राशि सुनश्चित करना चाहते है। बैंक FD चुनने का सबसे बड़ा कारन लोग अपने मेहनत के पैसे को ज्यादा रिस्क उठाकर डूबने नहीं चाहते है। लेकिन पिछले कुछ सालो मे समय बदल रहा है निवेश के अलग अलग प्रकार तकनीक सामने आ रही है नए स्टार्टअप निवेश के नए ज्ञान को लोगो के सामने रख रहे है इसी समय लोगो को बढ़ते महंगाई दर के कारन FD की कमजोरी दिखने लगी है देश के युवा FD  के बजाये नए निवेश विकल्पों मे जोखिम उठाकर निवेश करना चाहते है। ऐसे मे लोगो के मन मे सवाल है की  क्या अभी भी FD निवेश फायदेमंद है ? क्या कम हो रही है FD निवेश की लोकप्रियता सारे सवालो के जवाब के लिए चलिए जानते है FD निवेश के बारे मे सब कुछ। 


    बैंक FD क्या है ?(What Is Bank Fixed Deposit)

    • बैंक FD मे एक तय समय के लिए बैंक की तरफ से तय किये गए ब्याजदर पर राशि जमा की जाती है। 
    • इस जमा राशि बैंक की तय ब्याजदर के अनुसार सालाना ब्याज दिया जाता है। 
    • बैंक FD मचोर होने पर मूल जमा राशि और ब्याज की राशि को निकाला जा सकता है। 
    • बैंक FD के बारे मे यह जानकारी हलाकि सबको मालूम है और निवेश करना भी काफी आसान है। 

    बैंक FD करने के लाभ :Benifits Of Bank FD)

    • बैंक FD एक पूरी तरह से सुरक्षित निवेश है इसमे आपकी राशि पर  डिपाजिट इन्शुरन्स का लाभ मिलता है। 
    • DIGC कानून के तहत FD निवेशक बैंक बंद या फिर मोरोटोरियम के समय अपने FD निवेश पर 90 दिन के अंदर 5 लाख तक की राशि डिपाजिट इन्शुरन्स के जरिये प्राप्त कर सकता है। 
    • एक अच्छे और सरकारी बैंक मे आपका निवेश डूबने की आंशका कम होती है ऐसे भी समय आप डिपाजिट इन्शुरन्स का लाभ ले सकते है। 
    • बैंक FD के समय मे जरुरत पड़ने पर आप उसी FD पर लोन भी ले सकते है। 
    • एक सुरक्षित लोन होने के कारन बैंक आपको तुरंत ऐसा लोन देती है। 
    • FD पर मिलने वाले लोन की राशि FD के मूल जमा राशि से कम होती है। 
    • बैंक FD मे जमा राशि पर एक तय दर से ब्याज मिलता है जो की सालाना या फिर हर महीने FD मे  जमा किया जाता है यह ब्याजदर किसी भी समय एक जैसी रहती है और निवेशक को निचित रिटर्न देती है। 
    • FD मचोर होने के बाद इसे फिर से नए FD मे निवेश किया जा सकता है। 
    • टैक्स बचाने के हेतु भी FD निवेश किया जा सकता है जिसमे सेक्शन 80 C के तहत 1 लाख 50 हजार के राशि  पर टैक्स लाभ मिलता है। 
    • वरिष्ठ नागरिक जो रिटायरमेंट प्लानिंग हेतु FD करते है ऐसे निवेशक को सामन्य से ज्यादा ब्याजदर दी जाती है। 
    • इसी समय वरिष्ठ नागरिक सामन्य से ज्यादा 50 हजार और की राशि पर टैक्स छूट का लाभ ले सकते है। 
    • बैंक FD मे आप 5 साल से लेकर 10 साल तक का मचोरिटी समय चुन सकते है वही ज्यादा से ज्यादा निवेश की कोई सिमा नहीं है। 

    बैंक FD के प्रकार :(Types Of Bank FD)

    बैंक FD अलग अलग निवेश लक्ष्य और हेतु को सामने रखकर की जाती है इसी के लिए बैंक अलग अलग प्रकार के FD विकल्प प्रदान करती है।


    1 साधारण फिक्स्ड डिपाजिट :(Normal Bank FD)
    • इस साधारण FD मे बचत खाते के मुकाबले अच्छा ब्याजदर होता है। 
    • आप इस विकल्प मे 7 दिन से लेकर 10 साल  तक के समय के लिए FD कर सकते है। 
    2 फ्लेक्सी फिक्स्ड डिपाजिट :(Flexi Fixed Deposit)
    • फ्लेक्सी फिक्स्ड  डिपाजिट मे हर महीना  निवेश की तय राशि आपके बैंक खाते काटकर FD मे जमा होती है। 
    • इस प्रकार के FD पर ब्याजदर कम हो सकती है। 
    3 टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपाजिट :(Tax Saving Fixed Deposit)
    • टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपाजिट पर सालाना 1 लाख 50 हजार के मूल राशि पर टैक्स लाभ मिलता है। 
    • यहाँ पर भी 5 साल का लॉक इन समय होता है जिसमे पैसे निकाल नहीं सकते। 
    • टैक्स सेविंग FD के लिए एकमुश्त राशि से निवेश करना पड़ता है। 
    4 सीनियर सिटीजन फिक्स्ड डिपाजिट :(Serniour Citizen FD)
    • इस FD 60 साल से ज्यादा उम्र होने वाले नागरिक निवेश  कर सकते है। 
    • जरुरत के अनुसार मचोरिटी समय चुनने का विकल्प मिलता है। 
    • वरिष्ठ नागरिकको के लिए ज्यादा स्पेशल  दर पर ब्याज दिया जाता है। 
    • इसी समय अतरिक्त टैक्स लाभ भी शामिल होता है। 
    5 संचयी फिक्स्ड डिपाजिट :(Comulative FD)
    • इस विकल्प मे सालाना ब्याज चक्रवृद्धि से बढ़ता और आखिर मे मचोरिटी के समय वापिस किया जाता है। 
    • संचयी FD नाम के तरह ही आपके बचत की राशि को बढ़ते है। 
    6 गैर संचयी फिक्स्ड डिपाजिट :(Non Comulative FD)
    • इस प्रकार के FD मे आप ब्याज कब लेना चाहते है तय कर सकते है जैसे की सालाना ,हर 6 महीने मे या फिर हर महीने। 
    • रिटायरमेंट वाले नागरिक या फिर पेंशन के लिए निवेश करने वाले इस विकल्प के जरिये हर महीने निसचीत ब्याज की रिटर्न प्राप्त कर सकते है। 

    बैंक FD निवेश ब्याजदर( अक्टूबर 2021) :(Latest Bank FD Intrest Rates 2021)


     

    FD निवेश के नुकसान :(Disadvantages OF Bank FD)

    • FD निवेश पर टैक्स लाभ और टैक्स छूट काफी कम मिलती है बड़े टैक्स स्लैब वाले  निवेशक को फायदा नहीं मिलता हैं। 
    • इसी समय FD पर 10 फीसदी के दर से TDS कटा जाता है। 
    • तय FD ब्याजदरों के कारन निवेशक बढ़ते ब्याजदरों का लाभ भी नहीं उठा सकते। 
    • बिना पैन कार्ड के यह TDS राशि 20 फीसदी लगती है। 
    • इसी समय FD के तय डरो के कारन एक तय रिटर्न ही प्राप्त की जा सकती है जिससे बढ़ती महंगाई दर के कारन फायदा नहीं मिलता है। 
    • हर साल की बढ़ते वृद्धि दर के कारन FD के तय ब्याजदर  से मिलने वाली इनकम कम हो जाती है। 
    • FD का एक और नुकसान आप मचोरिटी के पहले  FD बंद नहीं  कर सकते ऐसा करने पर आपको ज्यादा शुल्क देना पड़ता है और मिलने वाला ब्याज भी कम हो जाता है। 
    • पिछले कुछ सालो मे बैंक FD ब्याजदर काफी कम हो चुके है लगभग बचत खाते के ब्याजदर जैसे ही लगते है। 

    बैंक FD क्या  करना  चाहिए निवेश ?(Should You Invest)

    • FD निवेश एक तय सुरक्षित और गारंटीड रिटर्न पाने का सबसे बढ़िया विकल्प है। 
    • लेकिन इस समय के बदलते दौर महंगाई दर और निवेश विकल्पों के कारन निवेशकको को FD  ज्यादा लाभ नहीं मिलता है। 
    • FD मे निवेश करना है या नहीं यह चुनने के सवाल का सही जवाब आपके निवेश लक्ष और निवेश करने की क्षमता पर  निर्भर करता है। 
    • अगर आप बिना किसी जोखिम लिए अपने निवेश लक्ष को पूरा करना चाहते है तो FD निवेश फायदेमन्द साबित हो सकता है। 
    • लेकिन इसी समय आपकी जोखिम लेने की क्षमता है तो निवेश के लिए काफी सारे नए विकल्प मौजूद है जो FD से ज्यादा रिटर्न तय समय मे दे सकते है।
    Sandesh shinde
    मनी फाइंडर हिंदी वेबसाइट पर आपको लेटेस्ट फाइनेंस न्यूज़ की जानकारी मिलेगी इसके आलावा नए नए इन्वेस्टमेंट विकल्प के बारे मे बताया जायेगा
    Subscribe Our Newsletter