-->

फिक्स्ड डिपाजिट से बेहतर है भारत बांड ETF जानिए क्या है फायदे कैसे करे निवेश विस्तार से

Last Updated :05:52 PM 

मुंबई :भारत बांड ETF एक डेब्ट आधारित ETF फण्ड है भारत सरकार ने इस फण्ड की शुरवात की है। इस स्कीम एक फिक्स्ड डिपाजिट जैसी ही है जिसमे एक तय समय तक पैसे रखने होते है। और उसके बाद आपको ब्याज के अनुसार राशि मिलते है। हलाकि रिस्क के मामले मे ETF थोड़े से रिस्की जरुरत होते है। भरत सरकार इस ETF फण्ड की जिम्मेदारी एडेलवीस पर सोपि है जिसके बाद अब हाल ही मे उन्होंने जुलाई 2020 मे नयी किश्त को लांच करने का एलान किया है.लेकिन बोहोत कम इस स्कीम के बारे मे जानते है उन्हें लगता है की म्यूच्यूअल फण्ड जैसा ही होगा। इस स्कीम की जानकारी होना काफी जरुरी है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस स्कीम का लाभ उठा सके। 

सबसे पहले जानते है की क्या है भारत बांड ETF :

  • भारत बांड ETF एक म्यूच्यूअल फण्ड जैसा ही है जिसमे आप निवेश करते है। 
  • लेकिन इस ETF फण्ड को भारत सरकार के द्वारा लाया जाता है जिसमे सरकारी कम्पनिया और कुछ निजी कम्पनिया भी हिस्सा लेती है। 
  • इस फण्ड मे सरकरी और नई कंपनी के शेयर और बांड होते है। 
  • इस ETF बांड के जरिये खुदरा निवेशक निवेश कर सकते है और इस फण्ड को बाजार मे बेच भी सकते है।
  • इस बांड के जरिये भारत सरकार अपने नए प्रोजेक्ट के लिए फंडिंग जुटाता है। 
  • इस फन को एडेलवीस एसेट मैनेजमेंट के जरिये मैनेज किया जाता है। 

भारत बांड ETF की बिशेषताए :

  • इस फण्ड को स्टॉक एक्सचेंज पर ख़रीदा और बेचा जा सकता है। 
  • आप इस फण्ड के लिए 3 साल और 10 साल का मचोरिटी समय होता है। 
  • भारत बांड ETF मे AAA रेटिंग होने वाले कंपनी और बांड मे निवेश किया जाता है। 
  • आप इस फण्ड मे कम से कम 100 रुपये से निवेश शुरू कर सकते है। 
  • खासतौर पर भारत बांड ETF मे सरकरी कंपनियों मे निवेश किया जाता है। 
  • फण्ड की मचोरिटी समय को सीरीज कहा जाता है जिनकी शेयर बाजार इंडेक्सिंग ट्रैकिंग भी काफी अलग होती है.
  • आप जान सकते है की आपके निवेश किये गए फण्ड ने किस कंपनी मे कितना निवेश किया है। फण्ड की पूरी होल्डिंग आप चेक कर सकते है। 
  •  भारत बांड ETF से  अच्छी सुरक्षित रिटर्न निकाल सकते है। 
  • 3 साल के लिए बांड को होल्ड करने के बाद LTCG के तहत 20 फीसदी टैक्स लगता है। 
  • भारत बांड ETF की NAV आप हर दिन लाइव ट्रैक कर सकते है। 
  • भारत बांड ETF एक्सपेंस रेश्यो किसी भी किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड जैसे प्रोड्कट से काफी कम मन जाता है। 
  • आप शेयर बाजार पर एक्सचेंज के जरिये ETF को कभी भी बेच सकते है। 

इस तरह करे भारत बांड ETF मे निवेश शुरू :

  • भारत बांड ETF मे निवेश करने के लिए आपके पास डीमैट खता होना चाहिए है (एडेलवीस ने इस साल फण्ड ऑफ़ फण्ड की शुरवात की है जिसे डीमैट खाता नहीं होने पर भी म्यूच्यूअल फण्ड जैसा निवेश किया जा सकता है )
  • अगर आप चाहे तो शेयर बाजार के समय मे एक्सचेंज के जरिये खरीद सकते है जो की सीधे आपके डीमैट खाते मे दिखाया जायेगा। 
  • कुछ ऐसे लोग है जो ETF मे ट्रेडिंग भी करते है हर दिन ETF फण्ड खरीद कर बेचते भी है। 

भारत बांड ETF टैक्स छूट :

  • भारत बांड ETF को आप जब 3 साल से जयदा के समय के लिए रखते है तो आपको इसपर इंडेक्सेशन बेनीफीट के साथ 20 फीसदी टैक्स लगता है। 

भारत बांड ETF ब्याजदर :

  • अगर आप इस स्कीम मे पुरे 10 साल तक निवेश करते है तो आपकी मचोरिटी तक 7 फीसदी तक का ब्याज मिलता है। 

FD से बढ़िया है भारत बांड ETF :

  • अगर आप FD निवेश के लिए विकल्प ढूंढ रहे है तो आप भारत बांड ETF मे निवेश कर सकते है। 
  • भारत बांड ETF 3 से 10 साल के मचोरिटी मे आता जब की फिक्स्ड डिपाजिट 5 से 10 साल तक होता है /
  • आप भारत बांड ETF से कभी भी पैसे निकाल सकते है लेकिन FD मे ऐसा नहीं होता है। 
  • भारत बांड ETF मे आपको 7 से 7.80 फीसदी तक रिटर्न मिलती है जब की FD मे 6 से 7 फीसदी जो की कम है। 
  • ETF फण्ड होने के कारन भारत बांड पर STCG और LTCG के अनुसार 3 साल बाद 20 फीसदी तक टैक्स लगता है लेकिन FD पर आपको आपके इनकम टैक्स स्लैब के अनुसार टैक्स देना पड़ता है जो की ज्यादा होता है। 
इन सभी बातो को देखे तो आपको पता चल जायेगा की भारत बांड ETF आपको FD से उतने ही समय मे ज्यादा रिटर्न हलाकि भारत बांड ETF ज्यादा रिस्की है FD के मुकाबले। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां