-->

बैंक लोन देने के पहले चेक करती है आपका क्रेडिट स्कोर यहाँ जाने आखिर कैसे निकाला जाता है आपका क्रेडिट स्कोर

जब आप बैंक मे जाकर लोन के लिए आवेदन करते है तो सबसे पहले बैंक आपके CIBIL स्कोर याने क्रेडिट स्कोर को देखती है फिर चाहे वो पर्सनल लोन हो या कार लोन बैंक सबसे पहले इसी बात को देखती है। और इस स्कोर को देखने के बाद बैंक कभी कभी आपका लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट कर देती है। लेकिन ग्राहक को इसका असली कारन पता नहीं चलता है आपको बता दे की अगर आप इस CIBIL स्कोर को अच्छा मेन्टेन से आपको बैंक से बिना किसी परेशानी जल्द लोन लेने मे मदत होती है। लेकिन इसके लिए सबसे पहले जान लेना चाहिए की आखिर कैसे निकाला जाता है सिबिल स्कोर। 



    क्या होता है सिबिल स्कोर ?( What Is CIBIL Score?)

    • सिबिल स्कोर किसी भी ग्राहक के क्रेडिट हिस्ट्री और उसके क्रेडिट प्रोफाइल का दर्शक होता है। 
    • यह क्रेडिट स्कोर 300 से 900 के बिच मे होता है और जितना ज्यादा सबील स्कोर होगा उतना ही आपके लिए अच्छा होता है। 
    • सिबिल स्कोर को CIR क्रेडिट इनफार्मेशन रिपोर्ट भी कहा जाता है। 

    आखिर कितना सिबिल स्कोर होना अच्छा है ?(How Much CIBIL Score Is Good?)

    • अगर आपके सिबिल स्कोर 600 से निचे है तो वो काफी ख़राब माना जाता है। (लोन मिलने की संभावना ना के बराबर )
    • 600 से 649 के बिच का सिबिल स्कोर ख़राब ही माना जाता है। (लोन मिलने की संभावना काफी कम )
    • 650 से 699 के बिच का सिबिल स्कोर को औसत माना जाता है (सुरक्षित लोन आवेदन कर सकते है )
    • 700 से 749 के बिच का सिबिल स्कोर अच्छा माना जाता है (लोन मिलने की संभावना अच्छी )
    • 750 से 900 से बिच का सिबिल स्कोर काफी अच्छा माना जाता है (आसानी से लोन मिल जाता है )

    कैसे निकाला जाता है सिबिल स्कोर ?(How Is CIBIL Score Calculated?)

    सिबिल स्कोर को निकलते समय 5 अहम् पॉइंट्स को सामने रक्खा जाता है और उसके आधार पर आपका सिबिल स्कोर निकाला जाता है। 

    1 पुराने लोन की रीपेमेंट हिस्ट्री :

    • सिबिल स्कोर को निकलते समय आपके पुराने लोन की रीपेमेंट जानकारी देखि जाती है। 
    • इसमे देखा जाता है की आपके लिए गए पुराने लोन को समय पर लौटाया है या नहीं है। 
    • सिबिल स्कोर पर सबसे ज्यादा असर इस पॉइंट्स से पड़ता है। 
    • इसका कारन अगर ग्राहक पुराने लोन को सही समय पर लौटा रहा है तो बैंक की रिस्क कम हो जाती है। 

    2 लोन का समय :

    • अगर आपने कोई बड़ा लोन लिया है जो की लम्बे समय का है और उसे आप ठीक से सही समय पर लौटा रहे है तो इसका भी असर आपके सिबिल स्कोर पर पड़ता। 
    • हलाकि इसका ज्यादा असर नहीं होता है लेकिन इससे ग्राहक की लोन को हैंडल करने की क्षमता समझ मे आ जाती है। 

    3 लोन का इस्तेमाल :

    • आप आपके लिए उप्लाभ्दा लोन लिमिट से कितना लोन इस्तेमाल करते है लेते है इस बात का असर सिबिल स्कोर पर काफी ज्यादा दिखाई देता है। 
    • आप कितने क्रेडिट का इस्तेमाल कर रहे है ये जानने के लिए क्रेडिट रेश्यो का इस्तेमाल किये जाता है। 
    • क्रेडिट लोन इस्तेमाल को कम रखने से आपका सिबिल स्कोर काफी अच्छा मेन्टेन हो सकता है। 
    • इसका मतलब आपको जरुरत के अनुसार ही लोन लेना चाहिए ना की ज्यादा। 

    4 जरुरत से ज्यादा लोन एप्लीकेशन आवेदन :

    • कई बार ऐसा होता है की आप एक ही बार मे अलग अलग बैंक और वित्तीय सस्थानो के पास लोन एप्लीकेशन के लिए आवेदन करते है। 
    • ऐसे मे हर एक बैंक और वित्तीय सस्थान आपके सिबिल स्कोर इन्क्वायरी करती है। 
    • इस तरह से बोहोत ज्यादा सिबिल स्कोर इन्क्वायरी होने से भी आपके क्रेडिट स्कोर पर असर पड़ता है। 
    • हलाकि यह असर काफी कम होता है लेकिन होता है जरूर। 

    5 लोन का प्रकार :

    • आपके सिबिल स्कोर पर आपके लिए हुए लोन के प्रकार का भी असर पड़ता है। 
    • जिसमे सुरक्षित याने कार लोन ,होम लोन शामिल है वही असुरक्षित लोन मतलब पर्सनल और क्रेडिट कार जैसे लोन। 
    • जानकारों के अनुसार इन दोनों मे समतोल रखना चाहिए किसी एक प्रकार मे ज्यादा लोन  होने से आपके सिबिल स्कोर पर असर पड़ेगा हलाकि यह काफी कम होगा। 

    किस तरह से बढ़ाये सिबिल स्कोर ?( How To Maintain Good CIBIL Score)

    • एक ही बार मे छोटे समय के लोन आवेदन करने से सिबिल स्कोर पर असर पड़ता है इसलिए 1 बार सिर्फ एक ही आवेदन करना चाहिए। 
    • अगर आपने पहले किसी लोन को लिया है तो उसको सही समय पर वापिस करना चाहिए। 
    • जितना कम हो सके लोन लेने की कोशिश करे जरुरी ना होने पर लोन ना ले। 
    • किसी भी लोन को ज्यादा समय तक होल्ड ना करे आउटस्टैंडिंग लोन आपके सिबिल स्कोर को काफी ख़राब कर देता है। 
    • ज्यादा क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने से बचे इससे आपका असुरक्षित लोन क्रेडिट बढ़ सकता है। 

    भारत मे क्रेडिट रिपोर्ट कहा चेक करे ?( Where To Check CIBIL Score In India)

    • वैसे क्रेडिट स्कोर लोन आवेदन करने के बाद बैंक खुद चेक करती है। 
    • लेकिन आप खुद भी सिबिल स्कोर चेक करने वाली एजेंसी की वेबसाइट पर जाकर रिपोर्ट को देख सकते है।.
    • भारत मे सिबिल स्कोर रिपोर्ट की सेवा 4 एजेंसी देती है जिसमे 1)ए ट्रांस यूनियन सिबिल स्कोर 2) एक्वीफैक्स ,3) CRIF हाइमारक 4) एक्सपेरियन जैसे बड़े बड़े नाम है।

    टिप्पणी पोस्ट करें

    0 टिप्पणियां